मेडिकल पुलिस को नहीं मिल रहे मेडिकल में खून-खराबा करने वालों के खिलाफ सुबूत

Meerut. मेडिकल कॉलेज में डॉक्टर व कर्मचारियों के बीच मारपीट के मामले में पुलिस अभी तक आरोपियों के खिलाफ ऐविडेंस की तलाश कर रही है, जबकि मारपीट करते वक्त रंगे हाथ गिरफ्तार किए गए आरोपियों को पुलिस ने क्लीनचिट देकर छोड़ दिया. मेडिकल एसओ सतीश कुमार ने बताया कि मेडिकल थाने में डॉ अजीत चौधरी व विपिन त्यागी के खिलाफ कई गंभीर धाराओं में मुकदमा दर्ज किया गया है. विपिन की गिरफ्तारी के प्रयास किए जा रहे है. जबकि डॉक्टर हास्पिटल में एडमिट हैं.

दोनों ओर से मुकदमा

एसओ मेडिकल सतीश कुमार ने बताया कि डॉ. अजीत चौधरी की तहरीर के आधार पर मेडिकल कालेज कर्मचारी एसोसिएशन के अध्यक्ष विपिन चौधरी व उसके अन्य साथियों के खिलाफ धारा 307 व बलवे का मुकदमा दर्ज किया गया है. वहीं, विपिन त्यागी ने सीएमएस डॉ. अजीत चौधरी व उनके अन्य साथियों के खिलाफ धारा 308 व बलवे का मुकदमा दर्ज कराया है.

नहीं मिले सबूत

मेडिकल पुलिस ने मौके से ही पथराव कर रहे पांच कर्मचारियों को हिरासत में लेकर हवालात में डाल दिया था. वहां से सरिया व खून से सने पत्थर भी पुलिस ने अपने कब्जे में लिए थे, लेकिन पुलिस ने शनिवार की देर रात सभी को छोड़ दिया. एसओ मेडिकल सतीश कुमार का कहना है कि पकड़े गए कर्मचारियों के पास कोई एविडेंस नहीं मिला है.