-पीरबहोड़ा में खुराफातियों ने दुकान पर हमला बोलकर लूटी शराब

-जान बचाकर भागे सेल्समैन, पुलिस ने लाठियां भांजकर दौड़ाया

BAREILLY: ई-टेंडरिंग के बाद शराब की दुकानें खुलना शुरू हुई तो जगह-जगह विरोध भी शुरू हो गए हैं. कुछ शराब माफिया भी प्लान तरीके से विरोध करा रहे हैं. पीरबहोड़ा इज्जतनगर में नैनीताल हाइवे पर भी खुराफातियों ने देशी शराब की दुकान पर धावा बोल दिया. खुराफातियों ने दुकान पर पथराव किया और दुकान के अंदर रखी करीब 80 पेटी शराब लूट लीं. कई पेटियां सड़क पर फेंककर आग लगा दी. जब सेल्समैन ने विरोध किया तो खुराफातियों ने बाइक फूंक दी. किसी तरह सेल्समैन ने भागकर जान बचाई. यही नहीं खुराफातियों ने हाइवे पर जाम लगाने की भी कोशिश की. सूचना पर पहुंची पुलिस ने 5 खुराफातियों को गिरफ्तार कर लिया है. पुलिस एफआईआर दर्ज कर जांच कर रही है. बवाल से पहले दिन में पीरबहोड़ा के लोगों ने कलेक्ट्रेट पहुंचकर एडीएम सिटी से धार्मिक स्थल का हवाला देते हुए दुकान बंद कराने की मांग की थी.

शराब की पेटियों में लगाई आग

मेरठ निवासी अमित उर्फ मोहित रस्तोगी ने बरेली निवासी पार्टनर नीरज जायसवाल के साथ पीरबहोड़ा, इज्जतनगर में देशी शराब का ठेका लिया है. उन्होंने एक अप्रैल को हाइवे के किनारे दुकान खोली. फ्राइडे दोपहर दुकान पर सेल्समैन वीरेंद्र कुमार और धर्मेद्र मौजूद थे. इसी दौरान करीब डेढ़ सौ खुराफाती पहुंचे और दुकान के बाहर गाली गलौज शुरू कर दी. जब तक सेल्समैन कुछ समझते भीड़ ने दुकान पर पथराव करना शुरू कर दिया, जिसमें वीरेंद्र घायल हो गया. बवाली दुकान के अंदर घुस गए और शराब की पेटियां बाहर फेंकने लगे. उसके बाद पेट्रोल डालकर आग लगा दी. पथराव से घायल सेल्समैन वीरेंद्र को खुराफातियों ने घेर लिया और उसकी जमकर पिटाई शुरू कर दी. साथी धर्मेद्र ने उसे बचाने की कोशिश की तो उसे भी दौड़ा लिया. दुकान के बाहर खड़ी बाइक को हावइे पर ले गए और पाइप से पेट्रोल निकालकर आग लगा दी.

राहगीरों में मच गई भगदड़

हाइवे पर बवाल और तोड़फोड़ देखकर वहां से गुजर रहे लोगों में हड़कंप मच गया. पथराव और आगजनी के बाद राहगीर वहां से भागने लगे और भगदड़ मच गई. आसपास के एरिया में भी भगदड़ मच गई. हाइवे पर बस और ट्रकों और अन्य वाहनों की लंबी लाइन लग गई. आगजनी के बाद वाहन चालकों में डर बैठ गया. आसपास के दुकानदारों ने डर के चलते दुकानें बंद कर दीं. खुराफातियों ने लाठी-डंडों से जबरन हाइवे बंद करा दिया. किसी वाहन चालक ने निकलने की कोशिश की तो उसके साथ बदतमीजी की. खुराफातियों ने करीब एक घंटे तक बवाल किया. सूचना पर एक एसआई व दो पुलिसकर्मियों के साथ पहुंचे, लेकिन बवालियों को देखकर असहाय नजर आए. उसके बाद फोर्स पहुंची तो बवालियों को खदेड़ा गया. पुलिस ने मौके से फैज, फैजल, साजेब, तस्लीमुद्दीन समेत 5 लोगों को गिरफ्तार कर लिया.

पहले से थी बवाल की तैयारी

दुकान में तोड़फोड़ की प्लानिंग पहले से ही थी, क्योंकि सुबह पीरबहोड़ा के लोग कलेक्ट्रेट में एडीएम सिटी से शिकायत करने पहुंचे थे. उन्होंने धार्मिक स्थल के पास शराब की दुकान खुलने की बात कहते हुए, इसे बंद कराने की मांग की थी. एडीएम सिटी ने भी जांच के बाद कार्रवाई का आश्वासन दिया था. उसके बाद लोग वहां से लौट आए थे. दोपहर बाद धार्मिक स्थल से ही लोग इकट्ठा हुए और अचानक बवाल कर दिया.

लगातार चल रहा है विरोध

नई दुकानें खुलने का लगातार विरोध हो रहा है. सबसे पहले बैरोजा कॉलोनी बदायूं रोड पर शराब की दुकान का विरोध हुआ. लोगों ने अलग-अलग तरीके से विरोध जताया. यहां पर अंग्रेजी व देशी शराब की दुकानें खोली जा रही हैं. उसके बाद मिनी बाईपास पर कर्मचारी नगर में दुकान खुलने का विरोध हुआ और रोड जाम करने की कोशिश हुई.

पहले भी हुए विरोध

शराब की दुकानों का विरोध काफी पुराना है. जब पुरानी दुकानें थीं तब भी लगातार विरोध हुआ था. मढ़ीनाथ में विरोध पर पुलिस को लाठियां भांजनी पड़ी थीं. लाल फाटक पर भी जमकर विरोध हुआ था. 100 फुटा रोड पर भी विरोध हुआ था.

तो माफिया करा रहे बवाल

शराब की दुकानों के विरोध के पीछे माफिया के भी शामिल होने की संभावना है. कहा जा रहा है कि जो नई दुकानें खुल रही हैं, उन एरिया में पुराने माफिया की दुकानें थीं. पुराने माफिया इन लोगों से मिलकर अपना बिजनेस करना चाह रहे हैं, जो नए दुकानदार बिजनेस से इनकार कर रहे हैं, वहां अपने कुछ लोग इकट्ठा कर धार्मिक स्थल या अन्य बहाने से विरोध कराया जा रहा है.

शराब की दुकान की पहले शिकायत नहीं की गई थी, लेकिन अचानक दुकान पर हमला बोलकर पथराव और आगजनी की गई. एफआईआर दर्ज कर आरोपियों की गिरफ्तार की जाएगी.

रोहित सिंह सजवाण, एसपी सिटी