क्चन्॥क्त्रन्द्दह्रक्त्रन् : बहरागोड़ा भाजपा के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष डॉक्टर दिनेशानंद गोस्वामी का एक फर्जी पत्र कथित तौर पर झामुमो समर्थको द्वारा सोशल मीडिया पर पोस्ट करने को लेकर बहरागोड़ा का राजनीतिक माहौल गर्मा गया है. गोस्वामी समर्थकों ने इस मामले में कड़ा रुख अख्तियार करते हुए पत्र पोस्ट करने वाले तीन युवकों के खिलाफ बहरागोड़ा थाने में प्राथमिकी दर्ज करने हेतु आवेदन प्रेषित किया है. भाजपा नेताओं द्वारा थाना प्रभारी संजय कुमार सिंह को सौपे गए आवेदन में फर्जी पोस्ट करने वाले विश्वजीत ओझा उर्फ विशु ओझा, धनेश्वर मुर्मू एवं रविकांत सीट को आरोपी बनाया गया है. भाजपा नेताओं का आवेदन मिलने के बाद बहरागोड़ा पुलिस ने तीनों के ऊपर तत्काल 107 की कार्रवाई कर दिया है.

कई दिनों से आरोप-प्रत्यारोप

विदित हो कि बहरागोड़ा बाजार मुख्य पथ पर प्रशासन द्वारा अतिक्रमण हटाओ अभियान को लेकर भाजपा एवं झामुमो के बीच आरोप-प्रत्यारोप एवं सहमत का खेल पिछले कई दिनों से चल रहा है. गोस्वामी समर्थकों का कहना है कि उनके नेता ने उपायुक्त से मिलकर अतिक्रमण के दौरान विस्थापित लोगों के पुनर्वास की व्यवस्था की मांग की थी जबकि सोशल मीडिया पर जारी किए गए फर्जी पत्र म अतिक्रमण हटाने हेतु पहल करने की बात लिखी गई है.

बीजेपी ने कार्रवाई की रखी मांग

उधर दिनेशानंद गोस्वामी ने पूरे मामले की जानकारी दूरभाष पर पुलिस के वरीय अधिकारियों को देते हुए कार्रवाई की मांग की है. इस संबंध में उन्होंने कहा कि विपक्षी पार्टी के एक प्रमुख नेता के इशारे पर जनता में भ्रम फैलाने एवं उनका चरित्र हनन करने का प्रयास किया जा रहा है.

झामुमो ने कहा, फंसाने का प्रयास

इधर इस मामले पर विश्वजीत ओझा ने कहा की उक्त पत्र को मेरे द्वारा जारी नही किया गया. अगर कार्रवाई करना हैं तो जिस व्यक्ति अथवा संस्था के द्वारा इसे जारी किया गया उसके विरूद्ध कार्रवाई किया जाए. झामुमो कार्यकर्ताओं को झुठे मामले में फंसाने का प्रयास किया जा रहा.