-एसएसपी ने जिले के सभी थानों से मांगी अपराधिक छवि वाले छात्रनेताओं की सूची

-यूनिवर्सिटी व कॉलेजों में होने वाले छात्रसंघ चुनाव से पहले होगी जिला बदर की कार्रवाई

ajeet.singh@inext.co.in

ALLAHABAD: इलाहाबाद विश्वविद्यालय व इससे जुड़े अन्य कॉलेजों में अगले माह होने वाले छात्रसंघ चुनाव को देखते हुए पुलिस ने तैयारी तेज कर दी है. मारपीट या बवाल की आशंका को देखते हुए एसएसपी ने समस्त थानाध्यक्षों से आपराधिक इतिहास वाले छात्र नेताओं का रिकॉर्ड मांगा है. एसएसपी का आदेश मिलने के बाद कर्नलगंज, जॉर्ज टाउन, शिवकुटी, दारागंज, कीडगंज, मुट्ठीगंज व नैनी थाने की पुलिस ने दर्ज मुकदमों की जानकारी जुटानी शुरू कर दी है. ऐसे छात्रों पर भी नजर रखी जा रही है जिनकी छवि आपराधिक नहीं है, लेकिन बवाल व मारपीट की घटना में शामिल रहे हैं.

तय हो चुकी है चुनाव की तिथि

इलाहाबाद विश्वविद्यालय में पांच अक्टूबर को छात्र संघ चुनाव की तिथि घोषित हो चुकी है. इसी दिन इससे संबद्ध रखने वाले सीएमपी, इलाहाबाद डिग्री कॉलेज, ईश्वरशरण डिग्री कॉलेज एवं ईसीसी में भी चुनाव होगा. इलाहाबाद विश्वविद्यालय प्रशासन ने चुनाव की अधिसूचना भी जारी कर दी है. चुनाव तिथि घोषित होते ही चुनाव लड़ने वाले प्रत्याशियों और उनके समर्थकों में चुनावी सरगर्मी नजर आने लगी है.

चलती हैं शराब की पार्टियां

बता दें कि अक्सर चुनाव के दौरान हॉस्टलों में देर रात तक शराब की पार्टी आयोजित होती है. इसके अलावा स्थानीय नेताओं का जमावड़ा भी होता है. आपराधिक छवि के छात्रनेता भी चुनाव में अपने प्रत्याशियों की जीत के लिए लग जाते हैं. ऐसे में छात्र गुटों में मारपीट व बमबाजी की घटनाएं भी होती हैं.

पहले हो चुके हैं कई विवाद

-पिछले साल इलाहाबाद विश्वविद्यालय चुनाव के दौरान ही बसपा नेता राजेश यादव की हत्या की गई थी. इसे लेकर सिटी में काफी बवाल और तोड़फोड़ हुई थी.

-कुछ दिन पहले ईसीसी में चुनावी रंजिश में ही छात्रनेता को जमकर पीटा गया था. मामले में पूर्व छात्र समेत कई के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज हुई थी.

-इसी तरह हिंदू हॉस्टल के सामने एक छात्रनेता की कार पर फायरिंग व तोड़फोड़ की गई थी.

-हाल ही में पुलिस अधिकारियों को एलआईयू की खुफिया रिपोर्ट भी मिली है कि चुनाव के दौरान आपराधिक छात्रनेता गड़बड़ी के साथ बड़ी वारदात को अंजाम दे सकते हैं.

एहतियातन उठाया गया कदम

रिपोर्ट पर पुलिस अधिकारी एहतियात बरतते हुए अपराधिक छवि रखने वाले छात्रनेताओं की सूची तैयार करा रहे हैं. इनकी सूची तैयार होते ही उनके खिलाफ बड़े पैमाने पर जिला बदर की कार्रवाई की जाएगी. इसके लिए एसएसपी ने समस्त थानों से अपराधों में लिप्त छात्रनेताओं की डिटेल मांगी है. इसके आते ही जिला बदर की कार्रवाई शुरू की जाएगी. बता दें कि कर्नलगंज थाने में करीब एक दर्जन से अधिक छात्रनेताओं पर अपराधिक मुकदमें दर्ज हैं. हाल फिलहाल में कई अपराधिक छात्रनेता जेल से बाहर भी आए हैं. उनकी गतिविधियों पर भी खुफिया और पुलिस विभाग की टीम नजर रखे हुए है.

हॉस्टलों में चलेगा अभियान

चुनाव की सरगर्मी को देखते हुए पुलिस अधिकारी व खुफिया विभाग भी तेजी से सक्रिय हो गए हैं. तय किया गया है कि लगातार इलाहाबाद विश्वविद्यालय के अलावा आसपास के हास्टलों में चेकिंग अभियान चलाया जाएगा. ताकि हास्टलों में बाहर से आकर ठहरने वाले बदमाश और अपराधियों पर नजर रखी जा सके. इन्हें शरण देने वालों को भी चिन्हित करने का प्रयास किया जा रहा है.

वर्जन

छात्रसंघ चुनाव को देखते हुए तैयारी शुरू कर दी गई है. आपराधिक छात्रों और छात्रनेताओं की सूची तैयार की जा रही है. इनके खिलाफ जिला बदर की कार्रवाई की जाएगी. सभी थानों से ऐसे अपराधिक छवि रखने वाले छात्रनेताओं की लिस्ट मांगी गई है.

-नितिन तिवारी, एसएसपी