देहरादून: दून लिटरेचर फेस्टिवल के आखिरी दिन हुए टॉक सेशन में अभिनेत्री शर्मिला टैगोर और उनकी पुत्री सोहा अली खान ने फिल्मी दुनिया से लोगों को रूबरू कराया. यूनिसन व‌र्ल्ड स्कूल में आयोजित लिटरेचर फेस्ट में शर्मिला टैगोर ने 60-70 के दशक की फिल्मों को याद करते हुए कहा कि ब्लैक एंड व्हाइट फिल्में खास थीं. उन फिल्मों का अपना ही आनंद था. हर फिल्म, हर किसी की जिंदगी से जुड़ी लगती थी. मगर आज की फिल्में प्रोडक्ट बन गई हैं. इस दौरान सोहा अली खान ने भी बेबाकी से विचार रखते हुए कहा कि पटौदी परिवार में जन्म लेना उनका सौभाग्य है. लेकिन, वह अपनी मेहनत के दम पर ही पहचान बनाना चाहती हैं. सोहा ने अपनी किताब 'पेरिल्स ऑफ बीइंग मोडेरेटली फेमस' भी इस दौरान लॉन्च की. बताया कि इसमें उन्होंने सैफ अली खान और भाभी करीना के लव-चैप्टर 'सैफीना' को भी दर्शाया है. इसमें पिता के क्रिकेट और मां के फिल्मी कॅरियर का भी जिक्र है. यह किताब इमोशन कनेक्ट से भरी है.