टेलीकॉम डिपार्टमेंट, टेलीकॉम रेगुलेटर ट्राई को इन नियमों में बदलाव करने के लिए लिखने जा रहा है, वहीं टेलीकॉम कंपनियों का आरोप है कि ट्राई ने ये नियम लागू करने से पहले उनसे बातचीत नहीं की जिसके चलते ये दिक्कत आ रही है.
 
अनचाहे कॉल्स और एसएमएस से छुटकारा पाने के लिए नियम 1 जनवरी से लागू होने थे. इसके बाद ये नियम कई बार टले. टेलीकॉम डिपार्टमेंट अनचाहे कॉल्स और एसएमएस से जुड़े नियम में बदलाव करने के पक्ष में है.

अनचाहे कॉल्स और एसएमएस पर टेलीकॉम डिपार्टमेंट की कमेटी ने अपनी रिपोर्ट भी सौंप दी है.
 
टेलीकॉम डिपार्टमेंट की कमेटी के मुताबिक नई लैंडलाइन सीरीज जारी करना मुश्किल है. दरअसल लोकल कोड के बिना लैंडलाइन सीरीज जारी नहीं की जा सकती है. ऐसे में कॉल लोकेशन का पता न लगने से सुरक्षा का खतरा भी हो सकता है. साथ ही इंटरकनेक्शन चार्जेस वसूलने में भी दिक्कत का सामना करना पड़ सकता है.
 
ट्राई ने टेलीमार्केटिंग कॉल के लिए 140 सीरीज की मांग की है. ट्राई का दावा है कि मोबाइल और लैंडलाइन के लिए एक सीरीज से अनचाहे कॉल्स पहचानने में आसानी होगी. ऐसे में फिलहाल मोबाइल के लिए 140 की सीरीज जारी की गई है. लेकिन लैंडलाइन पर कोई फैसला नहीं बन पाया है.
 
टेलीकॉम कंपनियों की टेलीकॉम विभाग से बातचीत का दौर जारी है. लेकिन अनचाहे कॉल्स और एसएमएस के लिए ट्राई ने बैठक में हिस्सा नहीं लिया है. वहीं टेलीकॉम कंपनियों ने ट्राई के सीरीज 140 के नियमों की खिलाफत की है.कंपनियों का कहना है कि ट्राई ने इन नियमों को लागू करने से पहले ऑपरेटरों को कंसल्ट नहीं किया है.

Business News inextlive from Business News Desk