कानपुर। भारत में होने वाले सभी चुनावों में ईवीएम मशीन का इस्तेमाल किया जाता है। ईवीएम का फुल फार्म 'इलेक्ट्रानिक वोटिंग मशीन' होता है। यह मतदान का अत्यंत ही सरल तरीका है। इससे वोट डालने में समय कम लगता है और वोट भी पूर्णतः गोपनीय और सुरक्षित रहता है। इससे मतदाता का वोट निरस्त नहीं होता।

क्या होता है ईवीएम मशीने में
वोटिंग मशीन पर सभी उम्मीदवारों के नाम, चुनाव चिन्ह एवं फोटोग्राफ एक बड़े मतपत्र की तरह दिये होते हैं। प्रत्येक प्रत्याशी के सामने एक तीर का निशान और एक नीला बटन दिया गया है।

मतदाता ऐसे डाल सकता है वोट


- इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन (ईवीएम) पर अपनी पसंद के उम्मीदवार के चिह्न के सामने बटन दबाकर अपना वोट रिकॉर्ड करें; ऐसा करने पर आपको बीप की आवाज़ सुनाई देगी।
- वीवीपीएटी मशीन की पारदर्शी विंडो में दिखाई देने वाली पर्ची की जाँच करें। सीलबंद वीवीपीएटी बॉक्स में गिरने से पहले, उम्मीदवार के सीरियल नंबर, नाम, और चिह्न वाली पर्ची सात सेकंड तक दिखाई देगी।
- अगर आप किसी भी उम्मीदवार को पसंद नहीं करते हैं, तो आप नोटा, 'उपर दिए गए में से कोई नहीं' बटन दबा सकते हैं; यह EVM पर आखिरी बटन होता है।

Lok Sabha Election 2019 : जानें कहां से आती है वोटिंग की स्याही, जो मिटती नहीं

Uttar Pradesh Lok Sabha Voting 2019 : जानिए कैसे दिया जाता है वोट, ये है पूरी प्रक्रिया