meerut@inext.co.in
MEERUT : मतदान की पारदर्शिता को और अधिक पारदर्शी बनाने के लिए वीवीपैट यानि वेरीफाइड पेपर ट्रायल मशीन का इस्तेमाल किया गया, लेकिन गुरूवार को मतदान के दिन जगह जगह ईवीएम खराब होने की सूचना पर हंगामे भी हुए, वहीं ईवीएम से ज्यादा वीवीपैट मशीन को बदलने के लिए निर्वाचन टीमें दौड़ती रहीं।

मॉक पोल में फेल

गुरुवार सुबह 8 बजे शुरु हुई मॉक पोल में सातों विधानसभा में करीब 52 वीवीपैट खराब होने से उन्हें बदला गया। इसमें सबसे अधिक 15 वीवीपैट सरधना विधानसभा में बदली गई। वहीं, ईवीएम भी सबसे अधिक 17 सरधना में ही खराब हुई। सातों विधानसभा में 46 ईवीएम खराब होने पर बदली गई।

मतदान में 133 हुई खराब

वहीं, वास्तविक मतदान में 133 वीवीपैट ने धोखा दिया। इसमें सबसे अधिक सरधना में 27, सिवालखास में 24, किठौर और मेरठ कैंट में 19-19 और मेरठ दक्षिण में 20 वीवीपैट को बदला गया। वही ईवीएम की बात करें तो 24 ईवीएम में शिकायत की सूचना पर बदला गया। इसमें सबसे अधिक ईवीएम 10 हस्तिनापुर में बदली गई।