-सीएम बोले, सत्ता मेरा सेवा धर्म, कुछ लोगों के लिए धनोपार्जन का साधन

-राज्य की बागडोर संभाला तो पंचायत चुनाव में आधी आबादी को उसका हक दिया

AURANGABAD/PATNA : जब यहां पहली बार आया था तो इस जगह को देखकर लगा था कि यह ऐतिहासिक स्थल है। मगध की धरती ज्ञान और मोक्ष की धरती रही है। यहां का इतिहास गौरवशाली रहा है। हमें इतिहास को जानने व समझने का शौक रहा है। बिहार के गौरवशाली अतीत को वापस लाकर ऊंचाई पर ले जाना मुख्य लक्ष्य है। यह बात सीएम नीतीश कुमार ने कही। वे सोमवार को कुटुंबागढ़ मैदान में आयोजित जनसभा में बोल रहे थे। उन्होंने कहा कि बिहार के ऐतिहासिक किले, गढ़ व स्थान की खुदाई कर अपने गौरवशाली इतिहास को संरक्षित करना है।

विकास के लिए कर रहे कार्य

सीएम ने कहा कि 13 साल के शासन में हमने कानून का राज और न्याय के साथ विकास के मार्ग से हर इलाके, हर तबके, सामाजिक विकास व गरीबों के विकास के लिए अनवरत कार्य कर रहा हूं। सामाजिक सद्भाव में न कोई धर्म न कोई जाति न कोई समुदाय देखा जाना चाहिए। इससे राज्य का तीव्र विकास होगा। कुछ लोग समाज को तोड़ने के लिए इसका इस्तेमाल कर रहे हैं। महिला सशक्तीकरण पर कहा कि जब नवंबर 2005 में राज्य की बागडोर संभाला तो पंचायत चुनाव में आधी आबादी को उसका हक दिया। पोशाक और साइकिल योजना से छात्राओं की संख्या विद्यालय में बढ़ी। आज जीविका समूह ने महिला सशक्तीकरण को मजबूती दिया है। वर्तमान में 10 लाख समूह काम कर रहे हैं। बिहार में शराबबंदी पिछले चुनावी सभा में महिलाओं की मांग के बाद उठाया गया कदम है। सभी को आरक्षण का लाभ दिलाया। अब गांव के लोग भी पटना पांच घंटे में पहुंच जाते हैं। अब हम मजदूरी मांगने आए हैं। इस अवसर पर उनके साथ पार्टी के अन्य नेता और कार्यकर्ता काफी संख्या में मौजूद थे।