-पार्टी के वरिष्ठ नेताओं ने मामले को जल्दी सुलझाने का आग्रह किया

PATNA : अपने पसंदीदा कैंडिडेट्स को टिकट दिलाने के मुद्दे पर विधायक तेजप्रताप यादव के बागी तेवर से पार्टी एवं परिवार में खलबली मची है। जिसे देखते हुए लालू प्रसाद का कुनबा डैमेज कंट्रोल में लग गया है। राबड़ी देवी खुद हस्तक्षेप करते हुए रविवार को तेजप्रताप से बात करके उन्हें मनाने-समझाने की कोशिश की। लालू प्रसाद की बीमारी और गैर मौजूदगी का भी हवाला दिया गया। पार्टी एवं परिवार से अलग चलते हुए तेज प्रताप ने जहानाबाद और शिवहर से अपना प्रत्याशी उतारने का एलान कर दिया है। साथ ही अपने ससुर चंद्रिका राय को सारण संसदीय सीट से राजद के प्रत्याशी बनाए जाने से भी वह खफा बताए जाते हैं।

पार्टी बचाने का किया आग्रह

पारिवारिक सूत्रों ने बताया कि लालू प्रसाद ने पारिवारिक मसले को सुलझाने और पार्टी नेतृत्व को सिर्फ चुनाव पर ध्यान फोकस करने की हिदायत दी है। पार्टी के कई वरिष्ठ नेताओं ने भी चुनाव के दौरान इस तरह के विवाद से पार्टी को बचाने का आग्रह किया है। राजद के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष शिवानंद तिवारी ने भी राबड़ी और लालू प्रसाद को हस्तक्षेप करते हुए मामले को जल्द सुलझाने की सलाह दी है। उन्होंने कहा कि चुनाव के समय ऐसे विवादों से लालू परिवार की जगहंसाई हो रही है।

दो सीट से चाहते हैं कैंडिडेट्स

सूचना है कि राबड़ी देवी ने तेजप्रताप से बात की है। उनका इरादा जानने की कोशिश की। माना जा रहा है कि राबड़ी के हस्तक्षेप के बाद अगले एक-दो दिनों में कोई न कोई समाधान निकल जाएगा। जहानाबाद से तेजप्रताप अपने पसंदीदा चंद्रप्रकाश यादव को टिकट देना चाहते हैं, जबकि पार्टी नेतृत्व ने सुरेंद्र यादव को प्रत्याशी घोषित कर दिया है। इसलिए वहां अब कोई परिवर्तन संभव नहीं दिख रहा है, किंतु शिवहर सीट पर तेजप्रताप का दबाव काम आ सकता है। तेजप्रताप वहां से अंगेश सिंह को प्रत्याशी बनाना चाहते हैं और राजद नेतृत्व की ओर से रामा सिंह एवं अबु दोजाना समेत कई दावेदारों पर विचार किया जा रहा है।