ले जाएंगे वोटिंग के लिए घर से, बुजुर्गो को करेंगे स्पोर्ट

महिलाओं को करेंगे जागरुक, लोगों को वोटिंग के लिए करेंगे प्रेरित

MEERUT : एकेटीयू में वोटिंग को लेकर स्टूडेंट्स में वालेंटियर के तौर पर काम करेंगे। शासन के आदेशानुसार एकेटीयू ने ऐसा कदम उठाया है। इसके लिए बकायदा स्टूडेंट्स को ट्रेनिंग भी दी गई है.स्टूडेंट्स वोट न करने वालों को वोटिंग के लिए जागरूक करेंगे। इसके साथ ही बुजुर्गो को बूथ तक ले जाने का भी काम इनको सौंपा गया है।

ले जाएंगे बूथ तक बुजुर्गो को

स्टूडेंट्स को खासतौर पर बुजुर्गो व दिव्यांगों की मदद करने की जिम्मेदारी सौंपी गई है। जो पोलिंग बूथ तक खुद नहीं जा सकते हैं, ऐसे लोगों को ये स्टूडेंट्स उनके पोलिंग बूथ तक ले जाने का काम करेंगे। उनका वोट खराब न जाए इसके लिए ही ऐसा किया जाएगा। इनको बकायदा इलेक्शन कमीशन से एंट्री कार्ड दिया जाएगा, जिसको दिखाकर ही वो अपनी ड्यूटी दे सकेंगे।

महिलाओं को करेंगे जागरुक

स्टूडेंट्स को ये भी जिम्मेदारी दी गई है कि वो ऐसे घरों में जाए कि जहां महिलाएं वोट नहीं करती हैं। ऐसी महिलाओं को वोटिंग के फायदे बताकर उनको उनके पोलिंग बूथ पर भेजने का काम भी इनको ही दिया गया है। ताकि महिलाएं भी वोटिंग के अधिकार का सही प्रयोग कर सकें।

रास्ता भी सुझाएंगे

कुछ लोग ऐसे होते है अक्सर जिनका वोटिंग कार्ड नहीं आता है। ऐसे में वो कार्ड न होने के कारण अपना वोट नहीं दे पाते है। क्योंकि उनको जानकारी नही होती है। ऐसे लोगों को वो बताएंगे कि आधार कार्ड दिखाकर वो अपने करीबी बूथ पर किस क्षेत्र में जाकर वोट दे सकते हैं, उनको वोट दिलाने की जिम्मेदारी इनको सौंपी गई है।

वोटिंग सभी का अधिकार है, उसको जरुर करना चाहिए। इसके लिए एकेटीयू का प्रयास बेहतर है, जिससे वाकई ही काफी सहयोग होगा।

प्रो। जयमाला, डायरेक्टर, सर छोटूराम इंजीनियरिंग कॉलेज