PATNA : लोकसभा चुनाव में पुलिसकर्मियों की ड्यूटी अधिकारियों और मुंशी की पंसद से लग रही है। इसको लेकर पटना पुलिस लाइन में तैनात दंगा नियंत्रण दस्ता ने विरोध कर दिया और एसएसपी गरिमा मलिक से शिकायत की है। लोकसभा चुनाव में बिहार में 7 चरणों में वोटिंग होनी है। इसके लिए पटना पुलिस लाइन से 2 हजार 413 जवानों की ड्यूटी लगानी है। इसके लिए जवानों को चिंहित किया गया। दंगा नियंत्रण दस्ता में 132 जवान तैनात हैं। नाम न छापने की शर्त पर एक पुलिसकर्मी ने बताया कि नियम के अनुसार दो चिंहित ब्रॉस नंबर के बीच के जवानों का चयन करना है लेकिन यहां पर ऐसा नहीं हो रहा है। मामला जब वरीय अधिकारियों तक पहुंची तो हड़कंप मच गया।

पैसे के लिए मारामारी

दरअसल, मामले के पीछे चुनाव ड्यूटी में मिल रही राशि को लेकर खेल हो रहा है। एक चरण में चुनाव कराने के लिए सिपाही को दैनिक भत्ता और सूखा राशन मिलाकर 1875 रुपए प्रति चरण दिया जाता है। ऐसे में अगर किसी पुलिसकर्मी की सातों चरण में ड्यूटी लगती है तो उसे 13 हजार 125 रुपए मिलेगा। इस रुपए के कारण ही पुलिस लाइन में मौजूद मुंशी अपनी पसंद के सिपाही को चयनित कर रहे हैं।