lucknow@inext.co.in
LUCKNOW : समाजवादी पार्टी ने शनिवार को फूलपुर और इलाहाबाद से पार्टी प्रत्याशियों के नाम का ऐलान कर दिया। सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने फूलपुर से पूर्व जिलाध्यक्ष पंधारी यादव और इलाहाबाद से राजेंद्र सिंह पटेल को पार्टी प्रत्याशी घोषित किया है। ध्यान रहे डिप्टी सीएम केशव मौर्य द्वारा फूलपुर सांसद पद से इस्तीफा देने के बाद उपचुनाव में सपा-बसपा गठबंधन ने यह सीट भाजपा से छीन ली थी। सपा-बसपा गठबंधन प्रत्याशी नागेंद्र सिंह पटेल ने भाजपा के कौशलेंद्र पटेल को उपचुनाव में मात दी थी। पार्टी ने नागेंद्र सिंह पटेल का टिकट काटकर पंधारी यादव को दिया है। वहीं इलाहाबाद सीट से प्रत्याशी राजेंद्र प्रताप सिंह पटेल ने अपने सियासी सफर की शुरुआत जनता दल से की थी और पूर्व प्रधानमंत्री वीपी सिंह के करीबी माने जाते थे। उनके भतीजे प्रवीण सिंह पटेल फूलपुर से भाजपा विधायक हैं।

अतीक भी पहुंचा नैनी जेल
वहीं दूसरी ओर शनिवार सुबह माफिया अतीक अहमद ने भी बरेली जेल से नैनी सेंट्रल जेल में अपनी आमद करा ली जिसके बाद इलाहाबाद और फूलपुर की सियासी लड़ाई रोचक हो गयी है। सूत्रों की मानें तो अतीक अहमद फूलपुर से चुनाव लडऩे की तैयारी में है। दोनों सीटों पर अतीक का खासा प्रभाव माना जाता है। अतीक को कुछ दिन पहले की लखनऊ के एक कारोबारी को देवरिया जेल में बुलाकर धमकाने और मारपीट करने के आरोपों के बाद बरेली जेल ट्रांसफर कर दिया गया था। शुक्रवार रात अचानक बरेली के डीएम की संस्तुति पर उसे नैनी जेल ट्रांसफर करने का आदेश गृह विभाग ने जारी कर दिया था और तुरंत ही उसकी रवानगी भी कर दी गयी थी। अब अतीक के चुनाव लडऩे से फूलपुर सीट पर खासी तादाद में वोट बंटने की संभावना जताई जा रही है जो सत्तारूढ़ दल के प्रत्याशी के लिए फायदेमंद साबित हो सकता है।

देवव्रत ही लड़ेंगे जौनपुर से
वहीं दूसरी ओर जौनपुर सीट पर कांग्रेस प्रत्याशी देवव्रत मिश्रा ने शनिवार को अपना नामांकन दाखिल कर दिया जिससे इस सीट पर कांग्रेस द्वारा प्रत्याशी बदलने और पूर्व सांसद धनंजय सिंह को टिकट दिए जाने के कयासों पर विराम लग गया। उल्लेखनीय है कि निषाद पार्टी से टिकट की आस लगाए धनंजय सिंह ने जौनपुर से चुनाव लडऩे के लिए कांग्रेस का रुख किया था पर उनका प्रयास असफल साबित हुआ।

लोकसभा चुनाव 2019 : पिछले लोकसभा चुनाव से ही सूबे में छोटे दलों का बुरा हाल, बड़ों ने बांटे वोट


प्रियंका की दावेदारी की चर्चा तेज
इसके अलावा वाराणसी संसदीय सीट से कांग्रेस की राष्ट्रीय महासचिव एवं पूर्वी यूपी प्रभारी प्रियंका गांधी वाड्रा के चुनाव लडऩे की चर्चा जोरों पर है। कांग्रेस के एक एमएलसी का दावा है कि प्रियंका वाराणसी में पीएम मोदी को चुनौती दे सकती हैं। इससे पहले अपने यूपी दौरे के दौरान प्रियंका भी कार्यकर्ताओं से वाराणसी से चुनाव लडऩे के बारे में रायशुमारी कर चुकी हैं। पार्टी सूत्रों की मानें तो इसके लिए वाराणसी में किलेबंदी भी शुरू कर दी गयी है।