-इलेक्शन के बाद अवकाश की तैयारी में इंस्पेक्टर-एसआई

-चुनाव के चक्कर में छूटी शादियां, नहीं निभी नात-रिश्तेदारी

GORAKHPUR:

लोकसभा चुनाव के समाप्त होने के बाद जहां पुलिस महकमे ने राहत की सांस ली है। वहीं, आने वाले दिनों में पेडिंग पड़े कामों का प्रेशर बढ़ गया है। छुट्टियों के खुलने का इंतजार कर रहे इंस्पेक्टर और दरोगा भटकने लगे हैं। हालांकि आवेदकों को मतगणना के बाद ही अवकाश मिल पाएगा। पुलिस कर्मचारियों का कहना है कि इलेक्शन की भागदौड़ के बाद अब कुछ आराम की जरूरत महसूस हो रही है। पुलिस अधिकारियों का कहना है कि जरूरत के अनुसार पुलिस कर्मचारियों को अवकाश दिया जाएगा। मतगणना निपटने के बाद ही कोई सुनवाई हो सकेगी।

गैर जनपद रवाना किए गए थे पुलिस कर्मचारी

लोकसभा सामान्य निर्वाचन के लिए करीब तीन माह पूर्व तैयारियां शुरू हो गई थीं। चुनाव आचार संहिता लागू होने के बाद पुलिस की जिम्मेदारी बढ़ गई। सकुशल चुनाव संपन्न कराने के लिए पुलिस कर्मचारियों को विभिन्न बिंदुओं पर काम करना पड़ा। प्रक्रिया शुरू होने पर निर्वाचन के लिए जिले की फोर्स बाहर भी भेजी गई। करीब 60 फीसदी फोर्स की ड्यूटी अन्य जनपदों में लगने की वजह से थाना और पुलिस चौकियां खाली हो गए थे। बाहर गए हुए पुलिस कर्मचारी अंतिम चरण के चुनाव में शहर लौटे हैं। रविवार को मतदान के बाद सभी पुलिस कर्मचारियों को राहत मिल सकी।

तीन हजार से अधिक मुकदमे, पूरे होंगे पेडिंग काम

पुलिस के चुनाव में बिजी होने के दौरान मुकदमों की विवेचना पर भारी असर पड़ा। चुनाव संबंधित कामों को पूरा कराने के चक्कर में पुलिस अपने रूटीन के काम पूरे नहीं कर सकी। इस वजह से विवेचना में करीब तीन हजार मुकदमे पेडिंग पड़ गए। दरोगाओं का कहना है कि इलेक्शन की व्यस्तता में इस काम पर कोई ध्यान नहीं दे सका। इस चक्कर में फाइल मोटी होती चली गई। लेकिन मतगणना के बाद ही यह काम पूरा हो सकेगा।