gorakhpur@inext.co.in
GORAKHPUR: गोरखपुर लोकसभा व बांसगांव के 14 प्रत्याशियों के भाग्य का फैसला होने में महज 32 घंटे शेष हैं। लेकिन जिस प्रकार ईवीएम में खेल के आरोप चारों तरफ लग रहे हैं, इसे लेकर जिला निर्वाचन कार्यालय पूरी तरह सजगता बरत रहा है। वीवीपैट से प्रत्येक कैंडिडेट की निकाली जाने वाली पर्ची के कारण नतीजे आने में रात होने की पूरी संभावना है जबकि दोपहर दो बजे तक परिणाम आने वाले थे।

लगाए गए हैं 5-5 वीवीपैट
बता दें, लोकसभा चुनाव काउंटिंग के लिए डीडीयूजीयू कैंपस में नौ विधानसभा के 14 काउंटर बनाए गए हैं। इन्हीं काउंटर्स पर बूथ वाइज काउंटिंग होगी। काउंटिंग सुबह 8 बजे से शुरू होगी। प्रत्येक विधानसभा गैलरी में 5-5 वीवीपैट अलग से लगाई जाएंगी ताकि कैंडिडेट्स व एजेंट्स इस बात की शिकायत न कर सकें कि उनके वोट किसी अन्य पार्टी को चले गए हैं। सत्यापन के लिए ये वीवीपैट लगाए गए हैं। काउंटिंग की प्रक्रिया में दोपहर दो बजे तक रूझान जरूर प्राप्त हो जाएंगे लेकिन जिला निर्वाचन कार्यालय की तरफ से जब तक पूरी तरह से सत्यापन नहीं कर लिया जात। तब तक सर्टिफिकेट नहीं जारी किए जाएंगे। प्रत्येक कैंडिडेट की पर्ची वीवीपैट से निकलने के कारण रात होने की पूरी संभावना जताई जा रही है। सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि वीवीपैट एक ही टेबल पर गिनी जाएगी।

पारदर्शिता के लिए साथ बैठेंगे इलेक्शन एजेंट
उप जिला निर्वाचन अधिकारी आरके श्रीवास्तव ने बताया कि गोरखपुर लोकसभा सीट के लिए रिटर्निग ऑफिसर के विजयेंद्र पांडियन होंगे। वहीं बांसगांव लोकसभा सीट जीडीए वीसी अमित बंसल की टेबल लगाई जाएगी। इन दोनों टेबल पर इलेक्शन एजेंट भी बैठेंगे ताकि वह पूरी तरह से मॉनिटरिंग कर सकें। उप जिला निर्वाचन अधिकारी ने बताया कि सुबह आठ बजे से शुरू होने वाले काउंटिंग में सबसे पहले सर्विस वोटर्स की काउंटिंग होगी, उसकी स्कैनिंग होगी और क्यूआर कोड की जांच होगी। इसके लिए 15-15 टेबल लगाए जा रहे हैं।

सेंट्रल गवर्नमेंट इंप्लॉइज होंगे माइक्रो ऑब्जर्वर
उप जिला निर्वाचन अधिकारी ने बताया कि प्रत्येक विधानसभा के एक काउंटिंग टेबल पर एक काउंटिंग सुपरवाइजर और काउंटिंग असिस्टेंट तैनात होंगे। इन पर नजर रखने के लिए माइक्रो ऑ‌र्ब्जवर तैनात रहेंगे जो बैंक या एलआईसी विभाग के अधिकारी होंगे। इन सभी काउंटर्स से निकलने वाली रिपोर्ट आरओ की टेबल पर भेजी जाएगी। उसके बाद रिपोर्ट एनाउंस किया जाएगा। हर राउंड पर दो मशीनें ऑब्जर्वर अपने सामने देखते रहेंगे। उसके बाद माइक्रो ऑ‌र्ब्जवर को दिखाएंगे।

बिना कैमरे होगी मीडिया की एंट्री
उप जिला निर्वाचन अधिकारी ने बताया कि मीडिया पर्सन के लिए वाणिज्य संकाय भवन में अलग से सेंटर बनाया गया है। जहां पर टीवी की व्यवस्था की गई है। वहीं प्रत्येक विधानसभा वाइज सूचना देने के लिए मीडिया पर्सन को छोटे-छोटे टुकड़ों में काउंटिंग वाली जगह पर ले जाया जाएगा लेकिन बिना कैमरे लिए ही उन्हें अंदर ले जाया जाएगा।

उप जिला निर्वाचन अधिकारी ने बताया कि किसी भी कैंडिडेट के काउंटिंग प्लेस तक जाने के लिए मोबाइल और कैमरा पूरी तरह से बैन रहेगा। इसके साथ ही हथियार से लैस प्रत्याशी के गनर या फिर समर्थक भी प्रतिबंधित रहेंगे। अगर कोई जबरदस्ती करता है तो उसके विरुद्ध कार्रवाई होगी।