- साल भर से अधिक समय से खराब हैं कई रिजर्वेशन काउंटर का पि्रंटर

- मात्र छह काउंटर ही खुलते हैं आम पब्लिक के लिए

patna@inext.co.in

PATNA : पटना जंक्शन पर अगर आप टिकट रिजर्वेशन के लिए जाते हैं तो पर्याप्त समय लेकर जाएं. इसके कई कारण हैं. टिकट लेने के लिए आपको लंबी लाइन लगनी होगी. ख्8 रिजर्वेशन काउंटर होने के बावजूद. डिजिटल इंडिया कैंपेन के जमाने में आपको हो सकता है आपको अपने टिकट पर पेंसिल से पीएनआर नंबर लिखना पड़े. पटना जंक्शन के रिजर्वेशन काउंटर की यही हकीकत है. पूर्व मध्य रेल के इस ए ग्रेड जंक्शन की हालत ये है कि पर्याप्त कर्मी के रहते हुए पर्याप्त टिकट काउंटर किसी भी दिन नहीं खुल पाते हैं. शुक्रवार को भी कई काउंटर खुले ही नहीं थे.

कई काउंटर पर मॉनिटर-की बोर्ड नहीं

कुछ साल पहले की बात करें तो हर शिफ्ट में सत्रह काउंटर खुला करता था, लेकिन आज मात्र नौ काउंटर ही हर शिफ्ट में खुलते हैं. इस नौ काउंटर में से आप तीन को हटा सकते हैं जो जेनरल पब्लिक के लिए नहीं होते हैं. तीन काउंटर में तीन नंबर काउंटर पत्रकारों और वीआईपी के लिए आरक्षित है, चार नंबर काउंटर लेडिज के लिए और छह नंबर काउंटर पास वालों और ऑन डेट कैंसिल करवाने वालों के लिए है. इसके बाद छह काउंटर जेनरल पब्लिक के लिए बचते हैं. हर दिन और हर शिफ्ट में मात्र छह काउंटर खुलने के कारण लोगों को काफी देर तक लाइन में लगे रहना पड़ता है. रेलवे के कई स्टाफ ने बताया कि काउंटर पर पर्याप्त मॉनिटर ही नहीं है. जहां सिस्टम लगा हुआ है उसमें से भी किसी का की-बोर्ड खराब है तो किसी का माउस रुक-रुक कर काम करता है.

सालों से नहीं बदला गया है पि्रंटर

जंक्शन के कई टिकट काउंटर का पि्रंटर खराब है. वहीं कुछ काउंटर पर तो प्रिंटर हैं ही नहीं. प्रिंटर नहीं होने के कारण भी कई काउंटर नहीं खुलता है. वहीं खराब पि्रंटर के कारण टिकट पर कई बार पीएनआर नहीं छपता है तो कई बार एज और नाम ही नहीं दिखाई देता है. एक बुकिंग क्लर्क ने कहा कि हमलोग कई पैसेंजर के टिकट पर पेन से पीएनआर लिखते हैं. बताया कि ये पि्रंटर पिछेल तीन साल से भी अधिक समय से बदले नहीं गए हैं. रेलवे स्टाफ ने ही बताया कि अब तो मेंटनेंस करने वाली एजेंसी ने भी कहा कि अब इसका मेंटनेंस नहीं किया जा सकता है.

अधिकारियों को सब है मालूम

रेलवे स्टाफ ने बताया कि कई बार इस बात की जानकारी रेल अधिकारियों को दी गयी है. इतना ही नहीं इस मामले को लेकर ईस्ट सेंट्रल रेलवे कर्मचारी यूनियन ने मंडल कार्यालय के अधिकारियों को भी लिखा है. लेकिन साल भर बाद भी इन काउंटरों की हालत ठीक नहीं की गयी है. कहने के तो जंक्शन पर कुल अठाइस काउंटर हैं. इसमें से ख्ख्, ख्फ् और ख्ब् नंबर काउंटर शाम के समय खोला जाता है, लेकिन स्टाफ ने बताया कि इस काउंटर पर भी पि्रंटर और मॉनिटर ठीक नहीं है. उन्होंने बताया कि सीपीयू भी ठीक से काम नहीं करता है. इतना ही नहीं आज के आरक्षण कांउटर का भी पि्रंटर खराब है. पि्रंटर के खराब होने से दिन भर रिजर्वेशन काउंटर पर पैसेंजर की भीड़ लगी रहती है. कई बार पैसेंजर की झड़प भी बुकिंग क्लर्क से हो जाती है.