- ब्रह्मपुर में चार दिनों से लापता अभिषेक की गुत्थी सुलझी

- रघुनाथपुर में रेलवे ट्रेक पर मिला शव अभिषेक का

क्चङ्गन्क्त्र/क्कन्ञ्जहृन्: ब्रह्मपुर थाना के ढोढ़नपुरा से चार दिनों से लापता युवक के मामले को मामूली घटना समझ रही पुलिस कच् सच्चाई का पता चलते ही उसके होश उड़ गए. मामला इश्क के चक्कर में माशूका द्वारा युवक की हत्या का निकला. दरअसल, पड़ोसन से इश्क कर बैठे युवक को इसकी कीमत अपनी जान देकर गंवानी परी. माशूका ने ही युवक की हत्या कर उसे दुर्घटना का रूप देने के लिए प्रेमिका ने अपने सहयोगियों के माध्यम से शव को रेलवे ट्रैक पर रखवा दिया. किसी ट्रेन से कटकर शव कई टुकड़े में बिखर गया. जिसे रेल पुलिस बरामद कर लावारिस मानते हुए पोस्टमार्टम के बाद गंगा में प्रवाहित कर दिया. लेकिन बाद में मृतक के परिजनों द्वारा अपहरण का मामला दर्ज कराने पर चार दिन बाद इसका खुलासा हो पाया. अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी केके सिंह ने बताया कि आरोपित महिला को जेल भेजा जा रहा है. वहीं, अन्य आरोपितों की गिरफ्तारी के लिए छापेमारी चल रही है.

कैसे हुई युवक की हत्या

ढोढ़नपुरा निवासी 35 वर्षीय अभिषेक सिंह का शादीशुदा पड़ोसन के साथ पांच वर्ष से इश्क चल रहा था. महिला अपने छोटे-छच्टे बच्चों के साथ घर में अकेली रहती थी और पति परदेश में नौकरी करता है. इसलिए इश्क में कोई रोड़े भी नहीं थे. इसी बीच युवक की शादी ठीक हो गई. यह सुनकर महिला आपे से बाहर हो गई और शादी रूकवाने की धमकी दी. इसी बात को लेकर 7 जून की रात युवक महिला को समझाने उसके घर पहुंचा. पुलिस के मुताबिक दोनों के बीच पहले नोक-झोक हुई और युवक ने महिला को दो थप्पड़ जड़ दिए. इससे गुस्साई महिला आपे से बाहर हो गई और रॉड से युवक के सिर पर हमला कर दिया. जिससे घटनास्थल पर ही युवक की मौत हो गई.

अगले दिन शव को ठिकाने लगाया

युवक की हत्या तो माशूका ने 7 तारीख के रात में ही कर दी थी. लेकिन अकेले शव को ठिकाने लगाने में सक्षम नहीं दिखी तो शव को कमरे में बंद कर मायके कोपवां चली गई. जहां से अगले दिन आठ जून को अनिल पासवान और राजू पासवान सहित एक अन्य सहयोगी को लेकर गांव पहुंची. इसके बाद रात गहराने का इंतजार करने लगी. जैसे ही लगा कि गांव के लोग अब सो गए होंगे तो चारों ने मिलकर शव को रघुनाथपुर और धरौली के बीच रेलवे ट्रैक पर रख दिया.

भाई के शिकायत पर पुलिस हुई सक्रिय

मृतक के भाई चंद्रकांत सिंह ने 8 तारीख को भाई के अपहरण का मामला ब्रह्मपुर थाने में दर्ज कराया. जिसमें युवक की प्रेयसी गीता देवी, उसके पति निर्मल राम और कुछ अन्य लोगों पर शंका व्यक्त किया तो पुलिस महिला को पूछताछ के लिए थाने लाई. दो दिनों तक महिला पुलिस को भरमाती रही. लेकिन, अंत में पुलिसिया दबाव के आगे टूट गई और हत्याकांड की सारी कहानी परत दर परत पुलिस के समक्ष खोलकर रख दी.

इसी माह होनी थी मृतक की शादी

मृतक युवक अभिषेक की शादी होनी थी. घर में मंगलगीत शुरू हो गया था. लेकिन जिस घर में दो दिन बाद शहनाई बजने वाली थी. वहां अब मातमी सन्नाटा पसरा है. 14 जून को तिलक और 20 जून को भोजपुर जिला के जगदीशपुर में बारात जाने की तैयारी थी. लेकिन, नियति ने बारात से पहले उसे दूसरी दुनिया में पहुंचा दिया.

महिला ने अपना जुर्म कबूल कर लिया है. उसे जेल भेज दिया गया है. घटना में शामिल अन्य लोगों को गिरफ्तार कर जल्द ही सलाखों के पीछे भेज दिया जाएगा. हत्या में प्रयुक्त रॉड भी बरामद कर लिया गया है.

-केके सिंह, डीएसपी, डुमरांव