डेड लाइन बीतने के बाद भी समतल नहीं हो सकी जमीन

31 दिसम्बर को होना था काम पूरा, संतों ने दूसरी जगह डाला डेरा

allahabad@inext.co.in

ALLAHABAD: मुकामधारियों की सबसे बड़ी संस्था खाक चौक में शिविर लगाने वाले संन्यासियों की मुश्किलें बढ़ती जा रही हैं. खाक चौक के रामानंद स मार्ग पर शिविर लगाने के लिए प्रशासन की ओर से मिली संन्यासियों की जमीन दलदल हो चुकी है. यही वजह है कि पंजाब व गुजरात का खालसा हो या फिर दिगम्बर अखाड़े के संन्यासी हर कोई अभी शिविर लगाने से कतरा रहा है. यह हाल तब है जब डीएम संजय कुमार ने मेला में कार्यरत सभी विभागों को 31 दिसम्बर 2016 तक काम पूरा करने का निर्देश दिया था.

12 से शुरू होगा स्नान

संगम तीरे कल्पवास और जप तप की साधना का सिलसिला 12 जनवरी को पौष पूर्णिमा स्नान के साथ शुरु हो जाएगा. लेकिन अभी तक खाक चौक क्षेत्र में जमीन समतलीकरण का ही काम चल रहा है. चौक के रामानंद स मार्ग पर नारायण वेला, हरिद्वार से शिविर लगाने पहुंचे स्वामी जगदीश्वरानंद खुद दलदल जमीन को समतल करा रहे हैं. उनका कहना है कि समतल कराने में अभी कम से कम सात दिन का समय लगेगा.

आखिर कैसे लगाएं शिविर

पंजाब व गुजरात के खालसा को 150 फीट लम्बी और 120 फीट चौड़ी जमीन मिली है. यहां खालसा के चार शिविर लगाये जाने हैं, लेकिन जमीन दलदल में फंस गई है. खालसा के स्वामी संत दास ने बताया कि जमीन गीली हो गई है. उसमें बालू की रेत डालने के लिए पांच बार प्रशासन कार्यालय का चक्कर लगाने के बाद भी अभी तक सुनवाई नहीं हो सकी है.

मेलाधिकारी ने तीन बार आश्वासन दिया कि जमीन समतल कराई जाएगी. इसके बावजूद कोई मौके पर नहीं पहुंचा. पानी निकासी की भी कोई व्यवस्था नहीं की गई. ऐसे में संगम लोअर मार्ग पर दूसरे शिविर में रहना मजबूरी है.

स्वामी रामेश्वर दास, दिगम्बर अखाड़ा, अयोध्या