कुश्ती प्रतियोगिता में मराठी पहलवान रहे अव्वल

25 राज्यों के 200 से अधिक पहलवानों ने लिया कुश्ती प्रतियोगिता में हिस्सा

पदमश्री महाबली सतपाल सिंह और अर्जुन अवार्डी अनुज चौधरी भी मौके पर मौजूद रहे

Meerut. सीसीएस यूनीवर्सिटी के मैदान में पहली बार शुक्रवार को राष्ट्रीय स्तर की कुश्ती चैपिंयनशिप का आयोजन किया गया था. तीसरे दिन रविवार को अंतिम दिन कुश्ती का शुभांरभ कुश्ती संघ के अध्यक्ष अश्वनी गुप्ता द्वारा किया गया. अंडर-15 राष्ट्रीय कुश्ती प्रतियोगिता के तीसरे दिन पुरूष वर्ग की कुश्ती हुई. प्रतियोगिता में महाराष्ट्र के पहलवानों का दबदबा रहा.

200 पहलवानों ने लिया हिस्सा

रविवार को प्रतियोगिता में 25 राज्यों से 200 से अधिक पहलवानों ने हिस्सा लिया. इसमें 35 किलो भार वर्ग से लेकर 85 किलों भार वर्ग के पहलवानों के लिए कुश्ती का आयोजन किया गया था. महाराष्ट्र की टीम ने 157 पाइंट प्राप्त करके प्रथम स्थान, दिल्ली की टीम 150 पाइंट्स के साथ दूसरे व हरियाणा की टीम 124 पाइंट हासिल कर तीसरे स्थान पर रही.

सम्मानित हुए पहलवान

सीसीएसयू के मैदान में चली रही नेशनल लेवल की कुश्ती में जानें-मानें पहलवानों ने शिरकत की. इस दौरान आयोजन सचिव डॉ. जबर सिंह सोम ने अतिथियों का अभिनंदन किया. साथ ही अतिथि पहलवानों को मेडल व प्रमाण-पत्र देकर सम्मानित किया गया. प्रतियोगिता में अलग-अलग राज्यों से करीब 200 पहलवानों ने हिस्सा लिया. साथ ही अपार जनसमूह भी कुश्ती देखने उमड़ पड़ा. प्रतियोगिता सुबह 10 बजे शुरू होकर दोपहर तक चली.

कुश्ती के महाबली भी पहुंचे

रविवार को कुश्ती के महाबली पदम श्री सतपाल सिंह और अनुज चौधरी ने भी प्रतियोगिता में शिरकत की. सतपाल सिंह ने 1974 में एशिया कप में कांस्य जीता तो भारत सरकार ने उन्हें अर्जुन पुरस्कार से सम्मानित किया. 1975 में सतपाल सिंह ने मात्र 19 साल की उम्र में भारत केसरी का खिताब जीता तो पैर में चोट के बावजूद 1982 में एशियाई खेलों में गोल्ड जीता तो तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी ने उन्हें गले लगा लिया था. कुश्ती में अर्जुन अर्वाडी अनुज चौधरी भी खिलाडि़यों का उत्साह बढ़ाने पहुंचे.