नई दिल्ली (पीटीआई)। देश में कल शुक्रवार को उस समय हड़कंप मच गया जब अचानक से बड़ी संख्या में स्मार्टफोन में यूआईडीएआई नाम से एक हेल्पलाइन नंबर 1800-300-1947 दिखने लगा। यह अपने आप यूजर्स के स्मार्टफोन के अकाउंट में सेव हुआ था। इस मामले में सोशल मीडिया पर वायरल होने के बाद यूआईडीएआई ने कहा कि उसने एेसा कोर्इ नंबर नहीं सेव किया है। इसके बाद पता चला कि यह सब दुनिया की सबसे बड़ी सॉफ्टवेयर कंपनियों में गिनी जाने वाली गूगल की आेर से हुआ है।

मोबाइल जुड़ा है तो उसे चेक करके डिलीट कर दें
गूगल ने शुक्रवार की रात को कहा कि एंड्रॉयड फोनों के ‘सेटअप विजार्ड’ में यूआईडीएआई हेल्पलाइन नंबर और 112 हेल्पलाइन नंबर अनजाने में लोड हुआ है। गूगल ने इस पर माफी मांगते हुए कहा कि आगे भविष्य में एेसा नही होगा। वहीं इस पूरे मामले को लेकर महाराष्ट्र पुलिस की साइबर सुरक्षा सेल ने सुरक्षाा को लेकर एक परामर्श जारी किया है। महाराष्ट्र पुलिस का कहना है कि जिन लोगों के स्मार्टफोन में यूआईडीएआई के नाम से कोई नंबर अपने आप मोबाइल जुड़ा है तो उसे चेक करके डिलीट कर दें।

बेरोजगार युवक ने सड़क पर बांटना शुरू कर दिया रिज्यूम, गूगल सहित 200 कंपनियों से मिले जॉब ऑफर


गूगल और लेनोवो ने लांच की Smart डिस्प्ले डिवाइस, जो सुनकर, बोलकर और छू कर आपकी जिंदगी बदल देगी

National News inextlive from India News Desk