न्यूयॉर्क (पीटीआई)। सत्य और अहिंसा के पुजारी और भारत के राष्ट्र पिता महात्मा गांधी के सिद्धांतों से प्रेरित अमेरिका में एक महिला सांसद कैरोलिन मैलोनी का कहना है कि महात्मा गांधी को इस साल अमेरिका में सर्वोच्च नागरिक पुरस्कार 'कांग्रेशनल गोल्ड मेडल' से सम्मानित किया जाना चाहिए क्योंकि दुनिया भर में उनकी 150 वीं जयंती मनाई गई है। न्यूयॉर्क से सांसद कैरोलिन मैलोनी ने पिछले साल सितंबर में अमेरिका के संसद में गांधी को अहिंसा के प्रचार के लिए यूएस में कांग्रेशनल गोल्ड मेडल से सम्मानित किये जाने एक विधेयक पेश किया था। इसके साथ उन्होंने कहा गांधी सच में एक प्रेरणादायक नेता और ऐतिहासिक व्यक्ति रहे हैं।

मंडेला और मार्टिन को मिला यह सम्मान तो गांधी को क्यों नहीं

न्यूयॉर्क में अंतर्राष्ट्रीय अहिंसा फाउंडेशन यूएसए (आईएएफ) द्वारा महात्मा गांधी की 150वीं जयंती पर आयोजित एक कार्यक्रम में मैलोनी ने अपने भाषण में कहा, 'गांधी के पास लोगों को बदलने के कई तरीके थे और वह दुनिया भर के सभी अमेरिकियों और लोगों के लिए एक प्रेरणा हैं। मंडेला और मार्टिन लूथर किंग दोनों ने महात्मा गांधी के अहिंसा वाले सिद्धांतों को अपनाया और दोनों को कांग्रेशनल गोल्ड मेडल मिले हैं। इसलिए महात्मा गांधी को भी अमेरिका में यह सम्मान मिलना चाहिए।' बता दें कि मैलोनी ने भारतीय-अमेरिकी समुदाय के सदस्यों से आग्रह किया कि वे गांधी को कांग्रेशनल गोल्ड मेडल से सम्मानित कराने के लिए देश में अपनी अहम भूमिका निभाएं।

जब दक्षिण अफ्रीका से भारत लौटे महात्‍मा गांधी ऐसे मनाया गया था जश्न


सभी समस्याओं को अहिंसात्मक तरीके से सुलझाया

उन्होंने कहा, 'हम यह सम्मान दिलाने के लिए काम कर रहे हैं। हमें इसे इस साल पास करना चाहिए और गांधी व उनके के सिद्धांतों को याद करने के लिए ऐसा करना बहुत जरुरी है। हालांकि, यह गांधी को याद करने और उनके द्वारा किये कामों का धन्यवाद देने के लिए अधिक नहीं है लेकिन जिस तरह से उन्होंने सभी समस्याओं को अहिंसात्मक तरीके से सुलझाया, यह बहुत महत्वपूर्ण है और यह सम्मान हमारी तरफ से एक गिफ्ट की तरह होगा।'

International News inextlive from World News Desk