features@inext.co.in  
KANPUR: फिल्ममेकर महेश भट्ट का कहना है कि फिल्ममेकिंग बहुत हाई स्ट्रेस बिजनेस है, जिसके चलते कई बार लोग नशे, मूड स्विंग और डिप्रेशन के शिकार हो जाते हैं। महेश ने यह बात डार्क साइड ऑफ लाइफ: मुंबई सिटी मूवी के ट्रेलर लॉन्च इवेंट पर कही। इस मूवी से वह अपना एक्टिंग डेब्यू करने वाले हैं। 
क्लीनिकल डिप्रेशन का शिकार थी शाहीन 
इस मौके पर उन्होंने बेटी शाहीन के बारे में भी बात की जो 'क्लीनिकल डिप्रेशन' का शिकार हो गई थीं। महेश ने बताया, 'बेटी को 16 साल की उम्र में पता चला कि वह क्लीनिकल डिप्रेशन का शिकार है। 12 की उम्र में उसने सुसाइड के बारे में भी सोचा था। 
 हमारी इंडस्ट्री में ही एक लड़की ने अपनी जान दे दी थी। वह हमारे पास काम मांगने आई थी पर हम साथ काम नहीं कर सके। मुझे आज भी उसकी लाश देखने का मंजर याद है।

features@inext.co.in  

KANPUR: फिल्ममेकर महेश भट्ट का कहना है कि फिल्ममेकिंग बहुत हाई स्ट्रेस बिजनेस है, जिसके चलते कई बार लोग नशे, मूड स्विंग और डिप्रेशन के शिकार हो जाते हैं। महेश ने यह बात डार्क साइड ऑफ लाइफ: मुंबई सिटी मूवी के ट्रेलर लॉन्च इवेंट पर कही। इस मूवी से वह अपना एक्टिंग डेब्यू करने वाले हैं। 

क्लीनिकल डिप्रेशन का शिकार थी शाहीन 

इस मौके पर उन्होंने बेटी शाहीन के बारे में भी बात की जो 'क्लीनिकल डिप्रेशन' का शिकार हो गई थीं। महेश ने बताया, 'बेटी को 16 साल की उम्र में पता चला कि वह क्लीनिकल डिप्रेशन का शिकार है। 12 की उम्र में उसने सुसाइड के बारे में भी सोचा था। 

महेश भट्ट ने किया बड़ा खुलासा,बताया- सुसाइड के बारे में सोच रही थी बेटी

 हमारी इंडस्ट्री में ही एक लड़की ने अपनी जान दे दी थी। वह हमारे पास काम मांगने आई थी पर हम साथ काम नहीं कर सके। मुझे आज भी उसकी लाश देखने का मंजर याद है। 

ये भी पढ़ें: वुमन-सेंट्रिक मूवी में इस किरदार में नजर आ सकतीं हैं करीना

Bollywood News inextlive from Bollywood News Desk