-सभी जनपदों में किया जाएगा

Gorakhpur@inext.co.in
GORAKHPUR: महोत्सव पुरातन और नूतन का संगम होना चाहिए. इसमें अपनी विरासत के साथ-साथ विकास का भी प्रदर्शन होना चाहिए. प्रसन्नता है कि गोरखपुर महोत्सव में इसका समावेश किया गया है. यह बातें सीएम योगी आदित्यनाथ ने कही. वह तीन दिवसीय गोरखपुर महोत्सव के समापन अवसर पर गोरखपुर यूनिवर्सिटी में अपनी बातें रख रहे थे. उन्होंने सफल आयोजन के लिए आयोजन समिति को बधाई दी. कहा कि प्रदेश में हर जनपद का योगदान है. अब सभी जगह महोत्सव ऑर्गनाइज किया जाएगा.

समाज के सभी वर्ग को मिला प्रतिनिधित्व
सीएम ने कहा कि महोत्सव में पूर्वाचल की विरासत, यहां का गीत, संगीत, कला, संस्कृति, शिल्प का प्रदर्शन किया गया. यहां सरकारी विभागों ने अपनी उपलब्धियां प्रदर्शित की. समाज के सभी वर्गो का प्रतिनिधित्व मिला है. इस प्रकार के महोत्सव प्रदेश के सभी जनपदों में आयोजित किया जाएगा और लोगों को इससे जोड़ा जाएगा. इस दौरान सीएम ने मंथन पत्रिका, अभ्युदय स्मारिका का विमोचन किया. गोरखपुर के विकास से जुड़े वीडियो को भी लांच किया.

सभी काे दी बधाई
इस दौरान सीएम ने लोगों को लोहड़ी, मकर संक्रांति की बधाई देते हुए कहा कि गोरखपुर में गोरखनाथ सिद्धपीठ का अध्यात्म के क्षेत्र में विशेष योगदान है. वर्षो से प्रत्येक वर्ष मकर संक्रांति पर यहां एक माह का खिचड़ी मेला आयोजित होता है, जहां दूर-दूर से लाखों लोग खिचड़ी चढ़ाने आते हैं. उन्होंने कहा कि संस्कृति किसी भी राष्ट्र की आत्मा होती है और राष्ट्र एक जीता जागता स्वरूप होता है. कहा कि योग की परम्परा को पूरी दुनिया ने स्वीकार किया है. कुल 172 देश योग के साथ जुड़कर गौरव महसूस करते हैं. योग की परम्परा भारत ने ही दुनिया को दी है. हर साल 21 जून को योग दिवस के रूप मनाया जाता है.

दूसरे नंबर पर प्रदेश
पर्यटन मंत्री डॉ. रीता बहुगुणा जोशी ने कहा कि संस्कृति हमारी पहचान है और भारत की पहचान उसकी संस्कृति से ही है. उन्होंने गोरखपुर महोत्सव के आयोजन पर बधाई देते हुए कहा कि पर्यटन के क्षेत्र में विकास के लिए यहां असीम संभावनाएं है. पर्यटन केवल मनोरंजन ही नहीं बल्कि रोजगार को जोड़ने व संस्कृति को समझने का अवसर देता है. प्रदेश विकास के तरफ निरन्तर अग्रसर है. मौके पर अपर मुख्य सचिव पर्यटन, सूचना अवनीश अवस्थी ने कहा कि पर्यटन के क्षेत्र में प्रदेश दूसरे स्थान पर है. पर्यटन द्वारा कई योजनाएं चलायी गई है. गोरखपुर व आसपास के क्षेत्र में पर्यटन की अपार संभावनाएं है. उन्होंने सुझाव दिया कि गोरखपुर में लिट्रेचर फेस्टिवल और एडवेंचर स्पोट्स व वॉटर स्पो‌र्ट्स ऑर्गनाइज ि1कए जाएंगे.

शुरू होगी 70 से अधिक लाइब्रेरी
कमिश्नर अमित गुप्ता ने कहा कि चीफ गेस्ट सहित उपस्थित सभी अतिथियों का स्वागत करते हुए बताया कि गोरखपुर महोत्सव में पुस्तक मेले का आयोजन किया गया. बुक रीडिंग फेस्टिवल ऑर्गनाइज हुआ. 70 से ज्यादा स्कूलों में लाइब्रेरी शुरू की जाएगी. उन्होंने बताया कि महोत्सव में लगभग 50 हजार स्टूडेंट्स ने सांस्कृतिक कार्यक्रम, विज्ञान प्रदर्शनी, नृत्य संगीत व टैलेन्ट जैसी प्रतियोगिताओं में भाग लिया गया. उन्होंने कहा कि खेल कूद की विभिन्न प्रतियोगिताएं ऑर्गनाइज हुई. डीएम के विजयेन्द्र पांडियन ने गोरखपुर सभी गेस्ट का धन्यवाद किया. इस मौके पर विधायक फतेह बहादुर सिंह, संत प्रसाद, शीतल पांडेय, संगीता यादव के साथ बड़ी तादाद में लोग मौजूद रहे.

स्टॉल्स का किया निरीक्षण
गोरखपुर महोत्सव के समापन कार्यक्रम के बाद सीएम ने सीधे स्टॉल्स की ओर रुख किया. इस दौरान वहां लोगों की पहले से काफी भीड़ थी. सीएम के पहुंचते ही वहां मौजूद सभी लोग काफी उत्साहित नजर आए. इसके बाद सेल्फी लेने का सिलसिला जो शुरू हुआ, सीएम के वापस पंडाल में लौटने तक जारी रहा. हर स्टॉल पर लोग दूर से ही सीएम संग सेल्फी लेने की कोशिश में लगे रहे. जिन रास्तों से सीएम को गुजरना था, वहां पहले से ही लाइन लग गई. सभी सीएम की एक झलक पाने के लिए उत्सुक नजर आए.

प्रोग्राम का लिया लुत्फ
सीएम ने मेले के निरीक्षण के बाद पंडाल में वापसी की. इस दौरान कई प्रोग्राम्स ऑर्गनाइज किए गए, जिसमें सीएम ने बैठकर प्रोग्राम का लुत्फ उठाया. पहले स्टेपिंग स्टोर इंटर कॉलेज के स्टूडेंट्स ने गोरखपुर महोत्सव के थीम सांग 'नाथ योगी..' पर अपनी ग्रुप डांस परफॉर्मेस दी. इसके बाद सबरंग में लखनऊ से आई मशहूर कथक डांसर सुरभि सिंह ने सुंदरकांड पर अपनी परफॉर्मेस दी, जिसमें उन्होंने खुद हनुमान का रोल प्ले किया. इसके बाद सुरेश वाडेकर के भजन और सांग्स पर लोग देर शाम तक झूमते रहे.

जमकर हुइर् पेट पूजा
गोरखपुर महोत्सव में जमकर पेट पूजा भी हुई. लोकल से लेकर चाइनीज तक, आइसक्रीम से लेकर पिज्जा तक सभी स्टॉल्स पर लोगों का जमावड़ा लगा रहा और लोगों ने जमकर मेले का लुत्फ उठाया. इस दौरान सामानों की खरीदारी के लिए भी लोगों की स्टॉल्स पर भीड़ नजर आई, जिसमें लोगों ने सामानों की एडवांस बुकिंग भी कराई. इसके साथ ही लोगों संडे को फनडे की तरह सेलिब्रेट किया और बच्चों ने जमकर मस्ती भी की और मेले का लुत्फ उठाया.