lucknow@inext.co.in
LUCKNOW : दरअसल पीडि़ता के चाचा पर यह आरोप मुख्य गवाह फौत यूनुस की पत्नी शबीना खातून ने लगाया है और डीएम को इस बाबत कानूनी कार्रवाई करने को पत्र लिखा है। शनिवार को राज्य सरकार के एक अधिकारी ने इसे सार्वजनिक भी कर दिया। डीएम को भेजे पत्र में यूनुस की पत्नी ने कहा कि माखी गांव के महेश सिंह उसके पति की मृत्यु के चार दिन बाद वह उसके घर में घुस आया और आठ लाख रुपये देने का प्रलोभन देते हुए टाइपशुदा तहरीर पर दस्तखत करने को कहा। साथ ही उसकी बात मानने पर सरकार से भी दस लाख रुपये दिलाने का आश्वासन दिया। शबीना ने कहा कि उसे और उसके परिजनों को महेश सिंह से जान का खतरा है। ध्यान रहे कि इससे पहले मुख्य गवाह की मौत के बाद महेश सिंह ने इसे संदेहास्पद करार देते हुए जांच की मांग की थी।

कब्र खोदने को तैयार नहीं परिजन

दूसरी ओर शनिवार को सीबीआई के गवाह यूनुस का शव कब्र से निकालने के लिए सीओ सफीपुर व एसडीएम हसनगंज व एसडीएम सदर पूजा अग्निहोत्री माखी व मौरावां पुलिस के साथ मृतक के दरवाजे पर पहुंचे। अधिकारियों ने परिजनों से बातचीत की लेकिन परिजन कब्र की खोदाई के लिए तैयार नहीं हुए। परिजनों का कहना था कि उसकी मृत्यु लंबी बीमारी की वजह से हुई थी। साथ ही कब्र को खोदना उनके धर्म के मुताबिक सही नहीं है। तमाम कोशिशों के बाद भी जब परिजन नहीं माने तो टीम ने वापस आने का फैसला ले लिया। देर रात प्रशासन ने भारी पुलिस बल के साथ कब्र खोदकर शव बरामद किया।

उन्‍नाव कांड: विधायक कुलदीप सिंह सेंगर ने पीड़‍िता के खेत से बेच डाली 30 लाख की मिट्टी

उन्नाव कांड : 'मैडम ! एक करोड़ दो विधायक जी को छुड़वा दूंगा'

Crime News inextlive from Crime News Desk