- घर में फंदा लगाकर दी जान, शराब का आदी था राजगीर

- एक सप्ताह के भीतर गांव के दूसरे युवक ने की खुदकुशी

GORAKHPUR: बेलीपार के भिलौरा गांव में रविवार शाम को एक युवक ने घर में फंदा लगाकर जान दे दी. वह अर्दली का बेटा था. एक सप्ताह के अंदर गांव में आत्महत्या की यह दूसरी घटना है. इसके पहले लेखपाल के बेटे ने जहर खाकर जान दे दी थी. भिलौरा गांव के दीनानाथ मौर्या सीजेएम के यहां अर्दली हैं. उनका बेटा राजगीर मौर्या कंप्यूटर मकैनिक था. वह शादीशुदा था और दो बच्चों का पिता भी था. रविवार को किसी बात को लेकर पत्‍‌नी से नाराज होकर उसने कमरे में फंदा लगाकर जान दे दी. पुलिस के मुताबिक वह शराब का आदी भी था. शराब के नशे में घर आया था. पत्‍‌नी से विवाद के बाद उसने आत्महत्या कर ली. फिलहाल भिलौरा गांव में एक सप्ताह के अंदर आत्महत्या की यह दूसरी घटना है इसके पहले लेखपाल के बेटे हिमांशु ने भी जहर खाकर जान दे दी थी. हालांकि परिवारवाले उसकी हत्या का आरोप लगा रहे थे.

छत से भी कूदा था, बच गई थी जान

राजगीर ने कुछ दिन पहले हुए विवाद के बाद छत से कूदकर जान देने की कोशिश की थी. हालांकि उसमें उसकी जान बच गई थी. सिर फटने की वजह से घरवालों ने उसे अस्पताल में भर्ती कराया था. ठीक होकर घर आया था. उसके बाद रविवार को उसने फिर पत्नी से विवाद कर लिया.