-डीएम ने प्रतिबंध का कड़ाई से पालन करने के दिए सख्त निर्देश

-हर बार आदेश के बाद भूल जाते हैं सभी जिम्मेदार

BAREILLY: चाइनीज मांझा का नाम आते है कि जेहन में कई तस्वीरें सामने आने लगती है. किसी की मांझे से गर्दन तो किसी की नाक तो किसी का चेहरा कटा नजर आता है. इसके साथ ही याद आता है कि प्रशासन का आदेश. आदेश चाइनीज मांझे पर प्रतिबंध का लेकिन हकीकत कुछ और होती है और फिर शहर किसी न किसी एरिया से मांझे से कटने की नई तस्वीर सामने आ जाती है. एक बार लगातार दो तीन वारदातें सामने आने के बाद डीएम ने चाइनीज मांझे पर लागू प्रतिबंध को कड़ाई से पालन करने के निर्देश दिए हैं. अब देखना है कि इस आदेश का पालन कितना होता है या फिर हर बार की तरह आदेश कागजों तक ही सीमित रह जाएगा.

पिछले दिनों हुई थीं तीन घटनाएं

पिछले एक सप्ताह में लेडी कॉन्स्टेबल समेत तीन लोग चाइनीज मांझे का शिकार हुए थे. इसमें दो बच्चे भी थे. यह हादसे चौपुला पुल और किला पुल के आसपास हुए थे. इन घटनाओं के बाद ही डीएम वीरेंद्र कुमार सिंह ने चाइनीज मांझा, सिंथेटिक मांझा, शीशा लेपित, नायलॉन पतंग डोरी के निर्माण, भंडार, उपयोग और बिक्री पर पूरी तरह से प्रतिबंध लगाया जाए. डीएम ने एडीएम सिटी, सिटी मजिस्ट्रेट, सभी एसडीएम और सभी एसीएम को इस संबंध में लिखित निर्देश जारी किए हैं.