feature@inext.co.in
KANPUR: ये वक्त मनोज बाजपेई के काफी अच्छा चल रहा है। उनकी फिल्मों को न सिर्फ बॉक्स-ऑफिस पर अच्छे रिव्यूज मिल रहे हैं, बल्कि उनके काम की भी तारीफ हो रही है। इस साल 23 अप्रैल को वह 50 साल के हो जाएंगे और इसी साल फिल्मों में उनके 25 साल भी पूरे हो जाएंगे। ऐसे हुई थी शुरुआत मनोज ने 1994 में फिल्म द्रोहकाल और शेखर कपूर की बैंडिट क्वीन में एक बेहद छोटे से रोल से अपना करियर शुरू किया था। लेकिन उनके लिए बॉक्स-ऑफिस नंबर मायने नहीं रखता। वह कहते हैं कि ये जरूरी नहीं कि सफलता कितने सालों में मिली, बल्कि जरूरी ये है कि इतने सालों में जो मिला है वो कितना मायने रखता है।
मनोज बाजपेई को बाॅलीवुड में पूरे हुए 25 साल,बताई अपनी स्ट्रगल और सर्वाइव की कहानी
बर्थडे तो आते जाते है
50वें बर्थडे पर मनोज बाजपेई कहते हैं, 'बर्थडे तो आते जाते रहते हैं। ऐसा नहीं कि मैं उम्र छुपाना चाहता हूं, बात बस इतनी है कि मैं सिर्फ उस रास्ते पर चलना चाहता हूं जो मेरे लिए इंपॉर्टेंट है।'  उनकी वाइफ शबाना उनके लिए ग्रांड बर्थडे पार्टी होस्ट कर रही हैं, इस बारे में मनोज का कहना है, 'न ही मैं फिल्मी पार्टियां अटेंड करता हूं और न ही होस्ट करता हूं। लेकिन इस साल बहुत कुछ हुआ, मुझे पद्मश्री सम्मान भी मिला तो ये ठीक है।'
मनोज बाजपेई को बाॅलीवुड में पूरे हुए 25 साल,बताई अपनी स्ट्रगल और सर्वाइव की कहानी

Box Office Collection:'द ताशकंद फाइल्स' ने दिया सरप्राइज, दूसरे हफ्ते बनाया ये रिकाॅर्ड


मुसीबत में फंसे कंगना और राजकुमार राव, बदलेगा 'मेंटल है क्या' का टाइटल

ऐसे थे 25 साल बेमिसाल
अपनी 25 सालों की जर्नी के बारे में मनोज ने कहा, ये मेरे लिए रोलर-कोस्टर राइड की तरह थी। यहां सर्वाइव करना मुश्किल था। कई अप और डाउन आए लेकिन आपको जो चीज हमेशा आगे चलने के लिए मोटिवेट करती रहती है वो है गोल जिसे आप अचीव करना चाहते हैं। मैंने टीवी में काम किया, थिएटर किया, फिल्में की।
मैंने हमेशा अच्छा काम करने की कोशिश की है और ये समझा है कि नई ऑडियंस के साथ रिलेट करना कितना जरूरी है। आपको सत्या का भीखू माहत्रे याद होगा लेकिन आज की जेनरेशन को भीखू नहीं लेकिन गैंग्स ऑफ वसेपुर का सरदार खान याद होगा। तो अगर एक एक्टर हर जेनरेशन को ध्यान में रखकर कर काम करता है तो सक्सेसफुल रहता है।

Bollywood News inextlive from Bollywood News Desk