- यूपी बोर्ड इंटर में फिजिक्स और केमिस्ट्री में हुए काफी स्टूडेंट फेल

- वहीं हाईस्कूल में मैथ्स में 26 प्रतिशत स्टूडेंट्स फेल हुए हैं

LUCKNOW :

यूपी बोर्ड हाईस्कूल व इंटर के रिजल्ट में साइंस स्ट्रीम के स्टूडेंट्स को तगड़ा झटका लगा है। इंटरमीडिएट में फिजिक्स और केमिस्ट्री में 27-27 प्रतिशत स्टूडेंट्स फेल हुए हैं। बायोलॉजी में 21 प्रतिशत को असफलता मिली है। खास बात यह है कि इंटर में संस्कृत के सिर्फ 53.92 प्रतिशत स्टूडेंट्स पास हुए हैं। वहीं अंग्रेजी में 76.50 प्रतिशत स्टूडेंट्स को सफलता मिली।

मैथ्स में लगा झटका

यूपी बोर्ड हाईस्कूल में छात्रों को तगड़ा झटका मैथ्स में लगा है। इंग्लिश और साइंस में भी काफी फेल हुए हैं। मैथ्स में 26 फीसदी स्टूडेंट्स फेल हुए हैं, वहीं प्रारंभिक मैथ्स में तो 50 फीसदी को ही सफलता मिली। अंग्रेजी और साइंस में 20 फीसद से अधिक स्टूडेंट्स फेल हुए हैं। इंग्लिश का पास प्रतिशत 79.03 व साइंस का 79.78 फीसदी रहा। सामाजिक विज्ञान में 80.52, कंप्यूटर में 87.79, वाणिज्य में 77.26, गृह विज्ञान में 94.46 तथा मानव विज्ञान में 81.62 फीसदी छात्र पास हुए।

इसलिए पड़ा असर

यूपी बोर्ड इंटर के प्रमुख विषयों के एग्जाम में पहली बार दो की जगह एक पेपर किए जाने का असर रिजल्ट पर पड़ा है। हिंदी, इंग्लिश और मैथ्स, फिजिक्स, केमिस्ट्री और जीव विज्ञान समेत अन्य विषयों में पास होने वाले स्टूडेंट्स की संख्या में कमी आई है। इंटर में कुल 106 विषयों में 105 विषयों की लिखित परीक्षा बोर्ड लेता है जिसमें 308 प्रश्नपत्र होते थे। एक विषय खेल एवं शारीरिक शिक्षा विषय की परीक्षा स्कूल अपने स्तर पर लेते हैं। इन 105 विषयों में से व्यावसायिक शिक्षा के कुल 41 ट्रेड विषय भी शामिल हैं। 2019 के इंटर एग्जाम में व्यावसायिक वर्ग के कुल 41 ट्रेड विषयों व कृषि को छोड़कर बाकी सभी वर्गो व विषयों में दो पेपर के स्थान पर एक पेपर अबकी कराया गया।