कॉन्ट्रैक्ट तोड़ा दिया
पांच बार ग्रैंड स्लैम जीत चुकीं मारिया शारापोवा का कहना है कि ऑस्ट्रेलिया ओपन के दौरान उनका ड्रग टेस्ट फेल हुआ है। जिसमें वह इस टेस्‍ट के दौरान फेल हो गई हैं। मेल्डोनियम दवा के इस्तेमाल के लिए दो साल तक का बैन लग सकता है। मारिया शारापोवा का कहना है कि उनका टेस्‍ट ऑस्ट्रेलिया के जाने-माने स्पोर्ट्स डॉक्टर पीटर ब्रूकन ने किया था। जिन्‍होंने अपनी जांच रिपोर्ट में इस बात का जिक्र किया था। जिसके बाद वर्ल्ड एंटी-डोपिंग एजेंसी ने इस मेल्‍डोनियम दवा को 1 जनवरी को ही बैन कर दिया था। उनका कहना है कि ड्रग टेस्‍ट में फेल होने से उन पर एक साल का उससे अधिक का बैन लग सकता है। इसके अलावा नाइकी ने भी उनके साथ कॉन्ट्रैक्ट तोड़ा दिया है।

काफी रिलैक्‍स फील
मारिया शरापोवा का साथ ही यह भी कहना है कि वह अब इस जांच रिपोर्ट पर कोई कमेंट नहीं करना चाहती हैं। वह करीब 10 साल से फैमिली डॉक्टर की सलाह पर मिल्ड्रोनेट नाम की दवा ले रही थीं, लेकिन उन्‍हें यह नहीं पता था कि यह वह दवा है जिस पर बैन लगा है। इस मेल्‍डोनिम दवा का इस्‍तेमाल हार्ट अटैक और सीने में दर्द के लिए किया जाता है। जिससे इसके इस्‍तेमाल से खिलाड़ियों को काफी रिलैक्‍स फील होता है। अमेरिका समेत कई देशों में इसके इस्‍तेमाल पर बैन लगा है। ऐसे में मारिया शारापोवा का यह भी कहना है कि यह तो सच है कि उन्‍हें अपने खेलने पर बैन लगने पर काफी अफसोस होगा क्‍योंकि वह बचपन से इसको खेलती आ रही हैं। जिससे वह इसे लेकर काफी चिंतित हैं लेकिन नियमों के मुताबिक उन पर एक्‍शन लिए जाना भी जरूरी है।

inextlive from Sports News Desk

inextlive from News Desk