-यूपी बोर्ड परीक्षा में इंटरमीडिएट में पीसीएम के स्टूडेंट्स की बढ़ेगी मुश्किल

-मैथ्स और फिजिक्स के पेपर के बीच नहीं मिल रहा इस बार कोई गैप

allahabad@inext.co.in

ALLAHABAD: यूपी बोर्ड की हाईस्कूल और इंटरमीडिएट की परीक्षाएं इस बार भी फरवरी के प्रथम सप्ताह में होने जा रही हैं. परीक्षा को लेकर बोर्ड की तरफ से शिड्यूल पहले ही जारी कर दिया गया है. इसके बाद स्टूडेंट्स भी बोर्ड परीक्षा की तैयारी में तेजी से जुटे हैं. लेकिन इंटरमीडिएट में पीसीएम यानी फिजिक्स, केमिस्ट्री और मैथ्स कांबिनेशन लेकर पढ़ाई कर रहे स्टूडेंट्स की मुश्किलें इस बार थोड़ी बढ़ी हुई हैं. असल में इस बार फिजिक्स और मैथ्स के पेपर में एक भी दिन का गैप नहीं है. ऐसे में दोनों कठिन विषयों को एक साथ तैयार करना और बेहतर रिजल्ट देने को लेकर स्टूडेंट्स टेंशन में हैं.

रिजल्ट पर भी असर पड़ने की आशंका

इंटरमीडिएट में पीसीएम कॉम्बिनेशन को लेकर परीक्षा देने वाले स्टूडेंट्स के रिजल्ट पर भी इसका असर पड़ने की आशंका है. टीचर्स का कहना है कि पीसीएम में फिजिक्स और मैथ्स दोनों ही कठिन विषय हैं. ऐसे में स्टूडेंट्स 21 फरवरी को मैथ्स और 22 फरवरी को फिजिक्स का पेपर तैयार करने में काफी मुश्किल होगी. इसका सीधा असर उनके रिजल्ट पर भी दिखाई देगा. दोनों ही विषयों के पेपर में कम से कम एक दिन का गैप स्टूडेंट्स को मिलना चाहिए. जिससे वह दूसरे पेपर की बेहतर ढंग से तैयारी कर सके और अपना बेस्ट दे सकें.

दोनों ही विषय बेहद महत्वपूर्ण हैं और कठिन भी. ऐसे में दोनों विषयों में स्टूडेंट्स को एक दिन का आराम मिलना चाहिए. जिससे वह रिवीजन कर सकें और परीक्षा के दौरान बेहतर कर सकें.

-टीपी पाठक

प्रिंसिपल, सीएवी इंटर कालेज

इंटरमीडिएट पीसीएम के स्टूडेंट्स के लिए तीनों विषयों में बेहतर करने पर ही भविष्य उज्जवल होता है. ऐसे में फिजिक्स व मैथ्स जैसे विषय के पेपर लगातार होने से स्टूडेंट्स को थोड़ी मुश्किल होगी.

-योगेन्द्र सिंह

प्रिंसिपल, केपी इंटर कालेज

इस बार नए पैटर्न से पढ़ाई हो रही है. ऐसे में एक दिन का गैप होना चाहिए. इस बार पेपर भी एक ही होना है. दो पेपर होने पर ये था कि पहले पेपर में किसी भी प्रकार की गड़बड़ी पर उसको दूसरे पेपर में कवर कर सकते हैं. लेकिन इस बार ऐसा भी नहीं है. इसलिए दिक्कत होनी स्वाभाविक है.

-इंदू सिंह

प्रिंसिपल, जीजीआईसी, सिविल लाइन