patna@inext.co.in

PATNA : अब बिहार बोर्ड के छात्र एक ही रजिस्ट्रेशन नंबर पर मैट्रिक और इंटर दोनों की परीक्षा देंगे. गुरुवार को बिहार बोर्ड के अध्यक्ष आनंद किशोर ने कहा कि नौवीं कक्षा में ही छात्रों का रजिस्ट्रेशन होगा. पहले छात्रों को मैट्रिक व इंटर के लिए अलग-अलग रजिस्ट्रेशन कराना पड़ता था. अध्यक्ष ने बताया कि अन्य बोर्ड के छात्रों को 11वीं में रजिस्ट्रेशन का मौका दिया जाएगा. जो छात्र मैट्रिक या इंटर की सेंटअप परीक्षा में फेल होंगे, वे अब मुख्य परीक्षा में शामिल नहीं होंगे. ऐसे छात्रों को बोर्ड प्रवेश पत्र जारी नहीं करेगा. बोर्ड ने 2019 में आयोजित होने वाली मैट्रिक और इंटर की परीक्षा की तैयारी शुरू कर दी है. अध्यक्ष ने डीईओ को निर्देश दिया कि ऐसे स्कूलों एवं कॉलेजों में ही प्रायोगिक परीक्षा का सेंटर बनाया जाए, जहां लैब की सुविधा हो.

प्रश्नपत्रों के बनेंगे आठ सेट

अध्यक्ष ने बताया कि मैट्रिक व इंटर की कॉपियों के मूल्यांकन में बेहतर कार्य करने वाले शिक्षकों को प्रोत्साहन राशि दी जाएगी. साथ ही जिन शिक्षकों की कॉपी में गलती पकड़ी जाएगी, उनके लिए दंड का प्रावधान किया जाएगा. इंटर एवं मैट्रिक के लिए आठ सेट बनाए जाएंगे ताकि एक सेट के वायरल होने की स्थिति में दूसरे सेट का इस्तेमाल किया जा सके. बोर्ड वस्तुनिष्ठ प्रश्नों को सरल करने की कोशिश करेगा.

सुनिश्चित करें उपस्थिति

अध्यक्ष ने निर्देश दिया कि परीक्षा के दौरान शिक्षक सभी परीक्षार्थियों की उपस्थिति पर ध्यान दें. सभी छात्रों से उपस्थिति न बनवाने वाले शिक्षकों की पहचान कर, उनके खिलाफ समुचित कार्रवाई की जाए. शिक्षक यह भी सुनिश्चित करें कि उत्तर पुस्तिका पर अनिवार्य रूप से विषय कोड भरें जाएं.

एडमिट कार्ड पर जन्म तिथि

बोर्ड अध्यक्ष ने कहा कि अगले वर्ष जारी किए जाने वाले प्रवेश पत्र में छात्रों की जन्मतिथि का भी उल्लेख किया जाएगा. जन्मतिथि का उल्लेख उपस्थिति पंजी पर भी होगा. बोर्ड अध्यक्ष ने आइटी निदेशक को जिला शिक्षा अधिकारियों के लिए अलग-अलग पोर्टल विकसित करने का निर्देश दिया है.