- केंद्रीय मंत्री राम विलास पासवान ने मायावती पर बोला हमला, लगाया दोहरी राजनीति करने का आरोप

- जिन्ना को बताया देश के बंटवारे का दोषी, महापुरुष मानने से किया इंकार

lucknow@inext.co.in

LUCKNOW : 'दलितों के वोट हासिल करने के लिये मायावती उन्हें उकसाती हैं. दलितों की याद उन्हें सिर्फ चुनाव के पहले ही आती है.' यह कहना है केंद्रीय खाद्य व सार्वजनिक वितरण मंत्री राम विलास पासवान का. वे गुरुवार को राजधानी में मीडियाकर्मियों से मुखातिब थे. बीएसपी सुप्रीमो मायावती पर दलितों को लेकर दोहरी राजनीति करने का आरोप लगाते हुए पासवान ने कहा कि एससी-एसटी एक्ट को कमजोर करने का काम सबसे पहले खुद मायावती ने किया और अब वे इस पर राजनीति कर रही हैं.

चुनाव के बाद बदल जाता है नारा

मंत्री पासवान ने कहा कि चुनाव के पहले 'तिलक तराजू और तलवार' जैसे नारे लगवाने वालीं मायावती का नारा चुनाव निकलते ही बदल जाता है. वे चुनाव के बाद हाथी नहीं गणेश जैसे नारे लगवाती हैं. केंद्रीय मंत्री ने आरोप लगाया कि मायावती जैसे लोगों की वजह से सुप्रीम कोर्ट के फैसले जैसी नौबत आई. उन्होंने एससी-एसटी एक्ट व प्रमोशन में आरक्षण विवाद के लिए भी मायावती को जिम्मेदार बताया. उन्होंने बताया कि बीएसपी सुप्रीमो ने वर्ष 2007 में सीएम रहते दो आदेश जारी किए थे. पहला एससी-एसटी एक्ट में कोई एफआईआर होगी तो एसएसपी उसकी जांच कराएंगे. दूसरा आदेश दलित महिला द्वारा रेप होने का आरोप लगाने से संबंधित था. पासवान ने कहा कि बसपा शासन में आदेश जारी किया गया कि दुराचार होने का आरोप लगाने वाली महिला का पहले मेडिकल कराया जाएगा.

मोदी सरकार ने मजबूत किया एससी-एसटी एक्ट

पासवान ने दावा किया कि मोदी सरकार ने एससी-एसटी कानून को मजबूत किया है. सरकार ने तय किया कि अगर सुप्रीम कोर्ट एससी-एसटी कानून को हल्का करेगी तो अध्यादेश लाया जाएगा. इसके साथ ही प्रमोशन में आरक्षण के लिए सुप्रीम कोर्ट जाएंगे. जरूरत पड़ने पर अध्यादेश लाया जाएगा. पासवान ने कहा कि मायावती ने गलती न की होती तो पदोन्नति में आरक्षण विवाद गंभीर नहीं होता. दलित के घर भोजन को लेकर इन दिनों गहराये विवादों के सवाल पर उन्होंने कहा कि इस मुद्दे पर राजनीति नहीं होनी चाहिये. उन्होंने कहा कि राहुल जैसे नेताओं को आलोचना का नैतिक अधिकार नहीं है. दलितों का वोट हासिल करने के लिए प्रयास किए जा रहे हैं तो एतराज क्यों है?

जिन्ना देश को बांटने के दोषी

अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी में जिन्ना की फोटो पर चल रहे बवाल को लेकर पासवान ने कहा कि जिन्ना देश के बंटवारे के दोषी हैं, उन्हें महापुरुष के रूप में स्वीकार नहीं किया जा सकता. उन्होंने कहा कि बाबा साहब ने देश बंटने से रोकने की हरसंभव कोशिश की. इसी कड़ी में पूना पैक्ट किया गया था.

ओबीसी हॉस्टलों में रियायती राशन

पासवान ने बताया कि एससी-एसटी के साथ ओबीसी हॉस्टलों में छात्रों को हर महीने बीपीएल के रेट पर 15 किलो अनाज दिया जाएगा. यह योजना इसी साल लागू की जाएगी. उन्होंने सभी राशन कार्डो को आधार से लिंक करने व 12 करोड़ जाली राशन कार्ड पकड़े जाने की जानकारी दी.