दून के प्राइवेट मेडिकल कॉलेज में एडमिशन के नाम पर ठगे 16 लाख

ठग गिरोह के तीन बदमाश गिरफ्तार, अन्य की तलाश जारी

देहरादून

एमबीबीएस में डोनेशन लेकर डायरेक्ट एडमिशन का धोखा देने वाला एक शातिर गिरोह दून में पकड़ा गया. गिरोह के बदमाश कोलकाता से गैंग ऑपरेट करते थे. गिरोह ने करनाल के व्यापारी से बेटी का देहरादून के एसजीआरआर मेडिकल कॉलेज में एमबीबीएस में एडमिशन के नाम पर 16 लाख रुपए ठग लिए थे. फरियादी की शिकायत पर एसटीएफ ने इस गैंग का पीछा करते हुए बोगस ग्राहक के जरिए दूसरे एडमिशन के लिए संपर्क किया.तो गैंग के बदमाश जाल में फंस गए और एसटीएफ ने दून से ही तीन शातिरों को पकड़ लिया. उनके पास से प्राइवेट कॉलेज में एडमिशन से जुडे़ फेक दस्तावेज,फर्जी आधारकाड, पहचान पत्र और बड़ी संख्या में एडमिशन के नाम पर धोखा देने के लिए इस्तेमाल किए जा रहे दस्तावेज और सामान मिला है. इस संबंध में पटेल नगर थाने में एफआईआर दर्ज कर ठगों को कोर्ट में पेश किया गया. जहां से उन्हें जेल भेज दिया गया. एसटीएफ को इस मामले में देश के कई शहरों में लोगों से डायरेक्ट एडमिशन के नाम पर ठगी का पता चला है, ठगों के ठिकाने और कांटेक्ट नंबर मिले हैं. उनकी विस्तृत पड़ताल कर अन्य बदमाशों की तलाश चल रही है.

एसटीएफ की एसएसपी रिधिम अग्रवाल ने बताया कि करनाल हरियाणा निवासी विकास गोयल से 7 जुलाई को ही दून में एजीआरआर मेडिकल कॉलेज में बेटी का एमबीबीएस में एडमिशन के नाम पर 16 लाख कैश और 6.95 लाख रुपए का डिमांड ड्राफ्ट लिया था. इसके बदले ठगों ने विकास गोयल को कॉलेज का फर्जी एडमिशन लेटर और अन्य दस्तावेज थमाए और फरार हो गए थे. बेटी को लेकर कॉलेज पहुंचे तो वहां एडमिशन लिस्ट में नाम नहीं था.ठगों के नंबंर भी बंद थे. फरियादी की शिकायत पर मामले की गोपनीय ढंग से पड़ताल शुरू कराई गई. पता चला कि गैंग के सदस्य कुछ अन्य लोगों से भी एडमिशन के नाम पर ठगी की फिराक में हैं. ठग गिरोह को दूसरे नंबर्स से कॉल किए गए तो वे फिर एडमिशन कराने को तैयार हो गए. ज्योंही कैश लेने ठग आए,एसटीएफ ने उन्हें पकड़ लिया. इस मामले में पटेल नगर थाने में धोखाधड़ी की एफआईआर दर्ज कर तीन आरोपियों

अर्जुन कुमार निवासी आगरा कैंट,

जीतेन्द्र कुमार निवासी भोजपुर बिहार और राकेश कुमार स्वामी निवासी बंगलुरू को गिरफ्तार कर कोर्ट के आदेश पर जेल भेज दिया गया है.

इंटरनेट पर कंसल्टेंसी के नंबर डालकर ठगी:

ठग गिरोह इंटरनेट पर कंसल्टेंसी के नाम पर नंबर डालता था. अपने बच्चों का एमबीबीएस में एडमिशन कराना चाहने वाले लोग इन नंबरों पर संपर्क करते थे. संपर्क करने वालों को प्राइवेट मेडिकल कॉलेजेज में डोनेशन सीट पर एडमिशनल कराने का झांसा देकर अपने जाल में फांसते थे. ठग गिरोह से पूछताछ में पुलिस को पता चला है कि देश में कई अन्य मेडिकल कॉलेजेज में एडमिशन के नाम पर भी उन्होंने ठगी की साजिश की है. जिसमें दून और अन्य शहरों उड़ीसा,कोलकाता के लोगों से ठगी के मामले शामिल हैं.

एबीबीएस में एडमिशन के नाम पर ठगी की शिकायत पर गोपनीय तरीके से बदमाशों का पीछा करा ठग गैंग के तीन बदमाशों को गिरफतार किया गया है. उनके कब्जे से काफी संदिग्ध दस्तावेज और सामान मिला है.

रिधिम अग्रवाल, एसएसपी एसटीएफ