भूखंड से संबंधित रिफंड पत्रावली रोकना का है मामला

तीन कर्मचारियों को चार्जशीट व वेतन रोकने के जारी किए निर्देश

Meerut. एमडीए ने रिफंड पत्रावली को एक वर्ष से अधिक तक रोकने के एक मामले में तीन लिपिकों को चार्जशीट जारी करते हुए तीनों का वेतन रोकने के आदेश दिए हैं. साथ ही एक वर्ष की रिफंड राशि पर ब्याज वसूली संबंधित लिपिकों से वसूल कर प्राधिकरण के कोष में जमा कराने के आदेश भी ि1दए हैं.

यह है मामला

लोहिया नगर आवासीय योजना की भूखंड संख्या एम.167 अंकित कुमार को आवंटित हुआ था. बाद में अंकित कुमार ने रिफंड के लिए प्राधिकरण से आग्रह किया. अंकित कुमार की रिफंड पत्रावली पर तत्कालीन उपाध्यक्ष ने आवंटी की जमा धनराशि की वापसी की मंजूरी विगत 16 जून, 2017 को दी थी. बावजूद इसके एक वर्ष से अधिक का वक्त बीत जाने के बाद भी आवंटी की जमा धनराशि प्राधिकरण ने वापस नहीं की. यह मामला दो दिन पूर्व उपाध्यक्ष साहब सिंह के संज्ञान में आया तो उन्होंने तुरंत की इस मामले को गंभीरता से लेते हुए माना कि संपत्ति लिपिक के स्तर पर धनराशि रिफंड न करना घोर लापरवाही है. इसके बाद उन्होंने तत्काल आवंटी की धनराशि वापस करने के आदेश देते हुए 7 सितंबर को सचिव राजकुमार को एक पत्र उनके कार्यालय से जारी किया. यह पत्र सचिव कार्यालय में पहुंचते ही हड़कंप मच गया.

प्राधिकरण कोष में जमा करें

उपाध्यक्ष द्वारा जारी इस पत्र में उल्लेख किया गया कि संपत्ति लिपिक फरजाना, वेद राम व विजय वर्मा को चार्जशीट जारी करने साथ ही अग्रिम आदेश तक तीनों लिपिकों का वेतन भी रोकने के आदेश उपाध्यक्ष द्वारा दिए गए हैं. साथ ही पत्र में यह भी कहा गया कि एक वर्ष की इस रिफंड राशि पर ब्याज की वसूली संबंधित लिपिकों से करके प्राधिकरण के कोष में जमा कराई जाए.