ज्यादातर ने नहीं दिया नोटिस का जबाव, अब होगी कार्रवाई

Meerut. नक्शा अप्रूव कराए बिना मेरठ में संचालित अवैध स्कूलों और अस्पतालों पर एमडीए ने फिर शिकंजा कसा है. प्राधिकरण ने पूर्व में दिए गए नोटिस की अवधि पूरी होने पर एक बार फिर से स्कूलों और हॉस्पीटल्स को नोटिस भेजने की तैयारी कर ली है. जुलाई प्रथम सप्ताह से नोटिस भेजने की प्रक्रिया शुरू होगी. वहीं दूसरी ओर कम्प्लीशन सर्टिफिकेट बिना संचालित 54 डिग्री और प्रोफेशनल कॉलेजों के खिलाफ प्राधिकरण संबंधित कॉलेज को मान्यता देने वाली सरकारी संस्था को पत्र भी लिखेगा.

स्कूलों ने नहीं दिखाए मानचित्र

गत दिनों मेरठ विकास प्राधिकरण ने शहर के 178 प्राइमरी एवं सीनियर सेकेंडरी स्कूलों को नोटिस जारी कर मानचित्र संबंधी दस्तावेज मुहैया कराने के निर्देश दिए थे. प्राधिकरण के नोटिस जारी करने के 3 माह बाद भी स्कूल संचालकों ने एमडीए को मानचित्र संबंधी दस्तावेज नहीं दिखाए हैं. ज्यादातर स्कूल-कॉलेजों ने तो नोटिस का संज्ञान ही नहीं लिया है. ऐसे में प्राधिकरण नोटिस अवधि पूरी होने के बाद जुलाई प्रथम सप्ताह से एक बार फिर कार्यवाही को लेकर रणनीति बना रहा है. वहीं दूसरी ओर शहर के हॉस्पीटल्स से भी प्राधिकरण ने नक्शा अप्रूवल के संबंध में नोटिस जारी कर डिटेल मांगी है.

54 डिग्री व प्रोफेशनल कॉलेज भी

मेरठ में 54 ऐसे कॉलेज-इंस्टीट्यूट भी हैं, जिन्होंने प्राधिकरण से कम्प्लीशन सर्टिफिकेट लिए बिना संबंधित सरकारी संस्था से मान्यता ले ली है. कई इंजीनियरिंग कॉलेज, मैनेजमेंट कॉलेज, बीएड कॉलेज और प्रोफेशनल इंस्टीट्यूशंस इस लिस्ट में शामिल हैं. प्राधिकरण के अहम दस्तावेज को जाली बनाकर उसके दुरुपयोग की शिकायतों का पिछले दिनों अफसरों ने संज्ञान लिया किंतु कार्रवाई नोटिस देने तक ही सीमित रही. जुलाई माह से ऐसे कॉलेजों के खिलाफ प्राधिकरण संबंधित सरकारी संस्था को मान्यता प्रत्याहरण के लिए पत्र लिखेगा.

मेरठ में संचालित स्कूल, कॉलेज और हॉस्पीटल्स से अप्रूव्ड नक्शे और एनओसी के संबंध में जानकारी मांगी गई थी. ज्यादातर ने एमडीए के नोटिस को नजरअंदाज किया है. जुलाई में एक बार फिर नोटिस देकर अग्रिम कार्रवाई को अंजाम दिया जाएगा.

राजकुमार, सचिव, मेरठ विकास प्राधिकरण