डॉक्टर्स डे स्पेशल

फ्लैग--

चिंता: दो हजार की आबादी पर उपलब्ध है सिर्फ एक डॉक्टर

-आईएमए में रजिस्टर्ड चिकित्सकों की संख्या है 1700

-शहर से गांव तक एक्सपर्ट डॉक्टर्स की भारी कमी

-पोस्ट निकालने के बाद भी नहीं आ रहे चिकित्सक

आज के दौर में शायद ही कोई ऐसा घर होगा जहां बीमार मौजूद नहीं. छोटी से बड़ी बीमारियों से हर घर में कोई न कोई जूझ रहा है. शहर से गांव तक डॉक्टर्स और हॉस्पिटल की भीड़ भी नजर आती है लेकिन सच्चाई यह है कि बीमारों की तुलना में अपने यहां धरती के भगवान कहे जाने वाले डॉक्टर्स की संख्या बहुत ही कम है. एक जुलाई को मनाए जा रहे डॉक्टर्स डे पर दैनिक जागरण आई नेक्स्ट की रिपोर्ट यह कहती है कि दो हजार मरीजों की संख्या पर महज एक डॉक्टर मौजूद है्.

महज 1700 रजिस्टर्ड डॉक्टर्स

इंडियन मेडिकल एसोसिएशन बनारस ब्रांच ऐसा है जहां से सरकारी और प्राइवेट के लगभग नब्बे परसेंट डॉक्टर्स जुड़े हुए हैं. दस परसेंट ही सरकारी व प्राइवेट चिकित्सक ऐसे हैं जो नहीं जुड़ सके हैं. इस आधार पर देखें तो जिले की आबादी लगभग 35 लाख है और डॉक्टर्स की संख्या 1700 है. ऐसे में 2058 मरीजों पर एक ही डॉक्टर अपनी सेवा दे रहा है.

भर्ती भी रह जा रही अधूरी

वैसे तो यूनानी, होम्योपैथिक डॉक्टर्स भी शहर में हैं लेकिन इमरजेंसी केसेज में हर कोई सबसे पहले एलोपैथिक डॉक्टर्स का ही दरवाजा खटखटाता है. खास बात यह है कि सीएमओ ऑफिस की ओर से कई बार डॉक्टर्स की खाली पोस्ट भरने को वैकेंसी भी निकाली गई लेकिन स्पेशलिस्ट डॉक्टर्स ने इस भर्ती में दिलचस्पी नहीं दिखाई है.

ये है मानक

व‌र्ल्ड हेल्थ ऑर्गनाइजेशन यानि डब्लूएचओ के अनुसार एक हजार की आबादी पर एक डॉक्टर होना चाहिए. जबकि अपने शहर पर गौर करें तो यहां दो हजार की आबादी पर सिर्फ एक डॉक्टर है. यानि यहां मानक की तुलना में डॉक्टर्स की दोगुनी कमी है.

आईएमए पर एक नजर

1,700

डॉक्टर्स हैं आईएमए बनारस ब्रांच में

600

हैं फीमेल डॉक्टर्स

135

से अधिक हैं गाइनकोलॉजिस्ट

150

से अधिक हैं सर्जन

130

से अधिक हैं एमडी

यह भी जानें

3000

डॉक्टर्स हैं नेशनल इंटीग्रेटेड मेडिकल एसोसिएशन बनारस ब्रांच में

600

डॉक्टर्स नीमा के सिटी में हैं

150

डॉक्टर्स हैं होम्योपैथिक मेडिकल एसोसिएशन ऑफ इंडिया बनारस ब्रांच में

मंडलीय हॉस्पिटल पर एक नजर

316

बेड

1600-1700

रोजाना आते हैं मरीज

48

डॉक्टर्स की है पोस्ट

41

डॉक्टर्स हैं तैनात

इनकी कमी

प्लास्टिक सर्जन, न्यूरोसर्जन, यूरो सर्जन, रेडियोलॉजिस्ट व एनेस्थेस्टिक

डीडीयू हॉस्पिटल

180

बेड

1300-1400

मरीज रोजाना आते हैं इलाज के लिए

41

डॉक्टर्स की है पोस्ट

35

डॉक्टर हैं वर्तमान में

इनकी कमी

जनरल, ईएनटी व प्लास्टिक सर्जन, इमरजेंसी मेडिकल अधिकारी, एनेस्थेस्टिक

वीमेंस हॉस्पिटल

150

बेड

400-500

रोजाना आते हैं मरीज

19

डॉक्टर्स की है पोस्ट

18

डॉक्टर्स हैं वर्तमान में

लाल बहादुर शास्त्री हॉस्पिटल, रामनगर

153

बेड का है हॉस्पिटल

1200

रोजाना आते हैं मरीज

32

डॉक्टर्स की है पोस्ट

27

डॉक्टर हैं वर्तमान में

05

खाली है डॉक्टर्स की पोस्ट

इनकी कमी

जनरल सर्जन, कॉर्डियोलॉजिस्ट, न्यूरोलॉजिस्ट, ईएनटी स्पेशलिस्ट

151

हैं सीएमओ के अधीन डॉक्टर्स की पोस्ट

140

डॉक्टर्स यहां वर्तमान में हैं तैनात

361

डिस्ट्रिक्ट में रेगुलर व संविदा डॉक्टर

77

संविदा के डॉक्टर

08

सीएचसी

08

पीएचसी

22

एडिशनल हेल्थ सेंटर