mawana: गन्ना समिति की बोर्ड बैठक में किसानों के चीनी मिल पर करोड़ों रुपये के बकाया भुगतान का मुद्दा छाया रहा. बोर्ड बैठक में मिल अधिकारियों पर किसानों का गुमराह करने का आरोप लगाया. बैठक में मिल अधिकारियों ने 17.26 करोड़ के भुगतान की एडवाइज थमाई. समिति चेयरमैन व सचिव ने शेष भुगतान की पूछा कि बाकि भुगतान कब और कैसे मिलेगा तो इस पर बताया गया कि मिल के पास जो चीनी है उसे बेचकर भुगतान कराया जाएगा.

बोर्ड बैठक में चर्चा

चेयरमैन विनोद भाटी की अध्यक्षता में आयोजित बोर्ड बैठक में सर्वप्रथम सचिव अनिल कुमार यादव ने गत वर्ष की बैठक की कार्यवाही की पुष्टि की.चेयरमैन विनोद भाटी व डायरेक्टरों द्वारा बैठक में मौजूद चीनी मिल के जीएम केन अभिषेक श्रीवास्तव व उनके साथ आए वीरेंद्र कुमार से भुगतान की स्थिति के बारे में पूछा. दोनों अधिकारियों ने 17.26 लाख के भुगतान की एडवाइज दी. बताया कि चीनी मिल पर किसानों के 287 करोड़ रुपये में से 54 करोड़ रुपये चीनी मिल समिति के माध्यम से दे चुकी है. शेष भुगतान जल्द ही चीनी बेचकर व अन्य स्त्रोतों से किया जाएगा. जिस पर समिति सचिव अनिल कुमार, चेयरमैन ने कहा कि मिल अधिकारी किसानों को गुमराह न करें. समिति सचिव ने किसानों से गन्ना सर्वे के लिए घोषणा पत्र भरने व सर्वे के दौरान मौके पर ही मौजूद रहने की बात कही. बैठक में समिति व मिल के अधिकारियों सभी डायरेक्टर मौजूद रहे.