एडीएम प्रशासन ने निगम और ग्रामीणों के बीच की मध्यस्थता

निगम और ग्रामीणों के बीच वार्ता हुई फेल, धरना स्थल पर चढ़ी कढ़ाई

Meerut. शहर में कूड़ा निस्तारण की योजना लेकर असमंजस की स्थिति बनी है. बीते बुधवार को सांसद राजेंद्र अग्रवाल ने शहर के 20 वार्डो में डोर टू डोर कूड़ा उठाने की योजना का शुभारंभ किया था. तो वहीं गुरूवार को गावड़ी गांव में कूड़ा डालने को लेकर उपजे विवाद में एडीएम प्रशासन रामचंद्र ने नगर निगम और ग्रामीणों के बीच मध्यस्थता की. करीब एक घंटे तक एडीएम प्रशासन के कार्यालय में चली बैठक में ग्रामीणों और नगर निगम ने अपना-अपना पक्ष रखा.

निगम ने मांगी मोहलत

एडीएम प्रशासन के कार्यालय में ग्रामीणों की तरफ पूर्व एमएलसी लोकेश प्रजापति और नगर निगम की ओर से नगरायुक्त मनोज चौहान पहुंचे थे. इस दौरान निगम ने कूड़ा निस्तारण प्लांट का काम एक महीने में शुरू कराने और तीन महीने में प्लांट चालू करने का दावा किया.

किसानों का धरना

उधर, गावड़ी में कूड़ा डालने को लेकर किसानों का धरना जारी है. किसानों ने धरना स्थल पर ही कढ़ाई चढ़ा दी है. ग्रामीणों ने दो सितंबर को महापंचायत का ऐलान कर रखा है.