-जलकल का बजट न रखने पर जवाबदेही व कार्रवाई के निर्देश

- मूल बजट 68068.10 लाख रुपये को बढ़ाकर 77972 लाख रुपये का पुनरीक्षित बजट

varanasi@inext.co.in

VARANASI

नगर निगम की मिनी सदन में शुक्रवार को पुनरीक्षित बजट ख्0क्भ्-क्म् पेश हुआ. मूल बजट म्80म्8.क्0 लाख रुपये का पुनरीक्षित होकर 7797ख् लाख रुपये का बजट पास हुआ. बैठक में शहर की सड़क, सीवर और एलईडी लाइटों पर जोरदार बहस हुई. इस दौरान सभासदों ने जेएनएनयूआरएम के काम सवाल उठा.

पेयजल व सीवर का बजट लापता

शहर की सबसे बड़ी समस्या वाटर सप्लाई और सीवर के लिए जलकल की ओर से कोई बजट न रखे जाने पर सदन में सवाल उठा. महापौर ने जलकल का बजट न रखने पर चिंता जताते हुए नगर आयुक्त को जवाबदेही व कार्रवाई तय करने को कहा है.

कब गठित होगी जांच समिति

मिनी सदन के शुरु होते ही सड़कों की खोदाई, सीवर व पेयजल लाइन की समस्या के साथ घाटों और रोड पर लग रहे एलईडी लाइटों पर जोरदार बहस हुई. पार्षदों ने जेएनएनयूआरएम के तहत हो रही खोदाई में लापरवाही का आरोप लगाया. इसकी जांच के लिए गठित की गयी कमेटी बनी या नहीं बनी इसपर चर्चा हुई.

इन मुद्दों पर हुई चर्चा

- जलकल के अधिकारियों व कर्मचारियों को नगर निगम की भांति ही वेतनमान देने का मुद्दा उठा.

- सीवर सफाई व मरम्मत का कार्य नगर निगम से कराया जाए.

- फ्क् मार्च तक पार्षद करा सकेंगे ख्0 लाख का कार्य, पिछली बैठक में पार्षद फंड को क्भ् लाख से बढ़ाकर ख्0 लाख किया गया था.

- निर्णय लिया गया कि वार्ड चौकियों पर जनता की मूलभूत समस्याओं के त्वरित निस्तारण के लिए भ्0 हजार रुपये तक की सामग्री रखवायी जाएगी. हर चौकी पर कर्मचारियों की तैनाती होगी.

7 जनवरी ख्0क्भ् को पार्षद भत्ता के लिए अधिसूचना जारी की गई लेकिन अब तक लागू नहीं हुआ. इस पर नगर आयुक्त ने कहा कि अधिसूचना प्रकाशन तिथि से लागू कराने की बात कही गई थी. जल्द ही बजट की प्रति शासन से मंगा लिया जाएगा और उसे प्रभावी किया जाएगा।