-खुशरंग हिना की रंगत में भी है असली और नकली का खेल

-मार्केट में मिल रही केमिकल युक्त मेहंदी साबित हो सकती है खतरनाक

varanasi@inext.co.in

VARANASI : हाथों में खिले खुशरंग हिना की रंगत हर महिला की चाहत होती है. यह चाहत तीज जैसे त्योहारों पर और भी बढ़ जाती है. सोलहों श्रृंगार से युक्त महिलाएं अपने पति की लंबी उमर के लिए तीज का व्रत रखती हैं. लेकिन जरा संभल कर. हो सकता है कि आप की हथेली पर खिली इस मेहंदी की रंगत नकली भी हो सकती है. जो आपके हथेलियों का रंगत बिगाड़ सकता है.

जो तुरंत रचे, वह गड़बड़ है

सीनियर डर्मेटोलॉजिस्ट डॉ. अरविंद कुमार बताते हैं कि हर अच्छी चीज की नकल बहुत तेजी से मार्केट में आती है. मेहंदी के साथ भी ऐसा ही है. मार्केट में केमिकल युक्त मेहंदी के कोन मिल रहे हैं जो लगाने के तुरंत बाद ही रच जाते हैं. लेकिन उनकी रंगत का असर खतरनाक साबित हो सकता है. यह बात जान लेने की है कर नेचुरल चीज के काम करने का अपना अलग तरीका होता है. अगर वह अपने नेचुरल व्यवहार से अलग हटकर काम कर रही है तो उसमें केमिकल की संभावना बढ़ जाती है. लोग मेहंदी में केमिकल वाले कलर्स का इस्तेमाल कर रहे हैं यह हाथों के लिए ठीक नहीं है.

खूब लग रही है मेहंदी

तीज के त्योहार के चलते मेहंदी लगाने वालों के यहां खासी भीड़ लग रही है. बहुतों ने बुकिंग करा ली है. एक ब्यूटी पार्लर की ओनर मिशेल बताती हैं कि उनके यहां ज्यादातर बुकिंग ख्7 व ख्8 अगस्त की है. सिर्फ इतना ही नहीं मार्केट में तीज की खरीदारी भी जोरों पर है. साडि़यों से लेकर ज्वेलरी, कॉस्मेटिक आदि की दुकानों पर महिलाओं की भारी भीड़ उमड़ रही है.

बॉक्स

मेहंदी कहीं उतार न दे रंग

- मेहंदी हमेशा अच्छी दुकानों से खरीदें.

-सस्ती मेहंदी खरीदने के चक्कर में न पड़े.

- अगर मेहंदी बहुत तेजी से रच रही हो तो उसमें केमिकल होना तय है.

- मार्केट में ब्रैंडेड मेहंदी कोन भी अवेलेबल हैं. उसका ही इस्तेमाल करें.

- बेहतर होगा कि मेहंदी लगाने के लिए अपने हाथ से मेहंदी का पेस्ट बनायें.