नगर विकास मंत्री का निरीक्षण

जोन-1- महात्मा गांधी वार्ड स्थित बर्फखाना मलिन बस्ती, बशीरतगंज, गणेशगंज स्थित मातादीन का हाता.

जोन-2- राजेंद्र नगर वार्ड स्थित मौलाबाग मलिन बस्ती.

जोन-8- विद्यावती द्वितीय वार्ड स्थित मदारीखेड़ा मलिन बस्ती.

- नगर विकास मंत्री ने तीन जोन का किया निरीक्षण, खुद पकड़ी लापरवाही

- जनता की शिकायत पर मुख्य अभियंता का कटेगा दो दिन का वेतन

lucknow@inext.co.in

LUCKNOWनगर विकास मंत्री सुरेश खन्ना जैसे ही मातादीन का हाता पहुंचे तो वहां मुख्य मार्ग पर कई स्थानों पर गड्ढों में गिट्टी भरी मिली. जब इसके बारे में लोगों से पूछा तो बताया गया कि आपके निरीक्षण की जानकारी मिली तो इन गड्ढों को भर दिया गया. जब नगर विकास मंत्री ने निगम के मुख्य अभियंता एसपी सिंह से बात की तो उन्हें संतोषजनक जवाब नहीं मिला. इस पर उन्होंने मुख्य अभियंता के दो दिन का वेतन काटने का निर्देश दिया. इस दौरान उनके साथ मेयर संयुक्ता भाटिया, सुनील मिश्रा प्रतिनिधि मंत्री नगर विकास, क्षेत्रीय पार्षद समेत निगम के अधिकारी मौजूद रहे.

टॉयलेट में लटका मिला ताला

उदयगंज अलंकार सिनेमा के सामने वाले मार्ग के टॉयलेट पर ताला बंद था. जिसे खुलवाने के निर्देश दिए गए. मुरली नगर के लोगों ने कहा कि नाली पर अतिक्रमण कर पाट दिया गया है, जिससे जलभराव हो रहा है. इस पर नगर विकास मंत्री ने अतिक्रमण करने वालों को नोटिस देने को कहा.

बनाए जाएं पीएम आवास

सराय फाटक तकिया गणेशगंज में लोगों ने एक ट्यूबवेल लगवाने की मांग की. इस पर मंत्री ने जलकल को एक मिनी ट्यूबवेल लगाने का निर्देश दिया. उक्त क्षेत्र नगर निगम की भूमि होना बताया गया. इस पर नगर विकास मंत्री ने कहा कि जमीन का परीक्षण कराकर इस पर पीएम आवास बनाने का प्रस्ताव तैयार किया जाए. जोन-2 राजेंद्र नगर वार्ड में जलभराव की शिकायत मिलने पर मंत्री ने कहा कि संबंधित जोनल प्रभारी जोन-2 एवं संबंधित नगर अभियंता जोन-2 की टीम गठित कर इस संबंध में तीन दिन में रिपोर्ट दे.

बाक्स

खुला नाला बना मुसीबत

एलडीए कॉलोनी सेक्टर-जी लोगों ने नाले की सफाई न होने की शिकायत की. नगर निगम ने यह नाला एलडीए के नियंत्रण में होना बताया. इस पर नगर विकास मंत्री ने जोनल अधिकारी-8 एवं नगर अभियंता-8 को तत्काल नाला सफाई के निर्देश दिए. साथ ही कहा पता लगाया जाए कि नाले का निर्माण किस संस्था ने कराया है और इसकी सफाई का दायित्व किसका है. यदि नाला निगम के नियंत्रण में है तो गलत रिपोर्ट देने वाले अधिकारी का एक दिन का वेतन काटा जाए.