हॉस्टन (पीटीआई)। अमेरिका में मैक्सिको बॉर्डर के पास रेगिस्तानी इलाके में गुरप्रीत कौर नाम की एक छह की बच्ची का शव मिला है। अमेरिकी अधिकारियों ने शुक्रवार को बताया कि बच्ची की मौत लू लगने के कारण हुई है और उसकी मां उसे छोड़कर पानी लेने के लिए गई थी। पिमा काउंटी ऑफिस के मेडिकल एग्जामिनर ने बताया कि कौर का शव यूएस बॉर्डर अधिकारियों को एरिजोना के लुकेविले से करीब 27 किलोमीटर दूर मिला, तब वहां का पारा 42 डिग्री सेल्सियस था। उन्होंने बताया कि बच्ची की मौत आकस्मिक थी और हाइपरथर्मिया के कारण हुई। हालांकि, बॉर्डर अधिकारियों ने कौर की मौत के लिए स्थानीय तस्करों को जिम्मेदार ठहराया है। कौर चार अन्य व्यक्तियों के साथ यात्रा कर रही थी और मानव तस्करों ने उसे सीमा के पास छोड़ दिया, इसके बाद उसे सीमापार करने का आदेश दिया।

नीति आयोग की पहली बैठक आज, बैठक से पहले इन मुख्यमंत्रियों ने पूर्व पीएम मनमाेहन से ली सलाह


पूरी बात जानने के हेलीकॉप्टर से शुरू की तलाशी

बता दें कि भारत की दो महिलाओं को जब बॉर्डर अधिकारियों ने पकड़ा, तब इस तस्करों के बारे में चौंका देने वाला खुलासा हुआ। उन्होंने यह विस्तार से बताया कि वह किस तरह से अमेरिका आईं। महिलाओं की बात सुनने के बाद एजेंटों ने हेलीकॉप्टरों से तस्करों की खोज शुरू की, इसी बीच उन्होंने पैरों के निशान पाए, जिससे पता चला कि वे मैक्सिको लौट चुके थे। कुछ दूर चलने के बाद अधिकारियों को पानी की तलाश कर रही मृत बच्ची की मां और उसके साथ एक अन्य महिला मिली। बता दें कि अन्य महिला ने भी अपनी  बच्ची को छोटी सी बच्ची के साथ छोड़ दिया था। टक्सन प्रमुख पैट्रोल एजेंट रॉय विलारियल ने कहा, 'हमारी सहानुभूति छोटी बच्ची और उसके परिवार के साथ है, यह एक संवेदनहीन मौत है जो तस्करों के कारण हुई है, वे किसी की जान जोखिम में डालकर पैसा कमाते हैं।' इसके अलावा उन्होंने यह भी बताया कि बीमारी अवस्था में दो अन्य भारतीयों मां और उसकी आठ साल की बेटी को भी बॉर्डर के पास रेगिस्तान में पाया गया है। उन्हें इलाज के लिए स्थानीय अस्पताल में भर्ती कराया गया है।

International News inextlive from World News Desk