मुस्लिम, जैन, क्रिश्चियन, बौद्ध और सिख समुदाय के स्टूडेंट्स को मिलेगा दाखिला

सितम्बर से शुरू होंगी क्लासेस, 30 स्टूडेंट्स का इंटरव्यू, 18 ग‌र्ल्स भी शामिल

vikash.gupta@inext.co.in

ALLAHABAD: इलाहाबाद यूनिवर्सिटी में ट्रेडिशनल एंड प्रोफेशनल कोर्सेस में पढ़ाई के अलावा स्टूडेंट्स के पास काम्पिटीटिव एग्जाम्स की तैयारी के भी चांसेस होंगे. इसमें आईएएस, पीसीएस, पीसीएस जे जैसे एग्जाम की तैयारी मुख्य होगी. इसके अलावा स्टूडेंट्स को एसएससी, बैंक, रेलवे आदि से जुड़ी प्रतियोगी परीक्षाओं के लिए भी गाइडलाइन मिलेगी. स्टूडेंट्स को यह मौका एयू के माइनारटीज ट्रेनिंग सेंटर की ओर से प्रदान की जाएगी.

मानव विज्ञान विभाग में है सेंटर

गौरतलब है कि एयू में माइनारटीज ट्रेनिंग सेंटर का कार्यालय और कक्ष आर्ट फैकेल्टी स्थित मानव विज्ञान विभाग के ऊपर स्थित भवन में स्थापित है. इसमें स्टूडेंट्स को नए शैक्षिक सत्र 2018-19 में प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी के लिए प्रशिक्षण दिए जाने की शुरूआत हुई है. खास बात यह है कि इसमें मुस्लिम, जैन, क्रिश्चियन, बौद्ध और सिख छात्र-छात्राएं आवेदन कर सकते हैं. पूर्व में एयू ने 09 जुलाई से 23 जुलाई तक आवेदन का मौका दिया था. लेकिन जानकारी न होने के कारण अभी सेंटर में कम ही संख्या में आवेदन पहुंचे हैं.

60 स्टूडेंट्स का है टार्गेट

सेंटर कोआर्डिनेटर प्रोफेसर सालेहा राशिद ने बताया कि इच्छुक अभ्यर्थी अब भी आवेदन कर सकते हैं. उन्होंने बताया कि पहले चरण में कुल 45 आवेदन आए थे. इनमें से 22 लड़के और 18 लड़कियों का इंटरव्यू लिया गया है. प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी में इंट्रेस्ट रखने वाले माइनारटी कैटेगरी के अभ्यर्थियों में जिनके आवेदन आगे मिलेंगे, उनके लिए दूसरे चरण का इंटरव्यू करवाया जाएगा. प्रो. सालेहा राशिद ने बताया कि वे 60 स्टूडेंट्स को प्रशिक्षण देने का टार्गेट लेकर चल रही हैं.

इंटर कॉलेज में भी काउंसिलिंग सेशन

ट्रेनिंग सेंटर में न्यू बैच की क्लासेस सितम्बर के फ‌र्स्ट वीक से संचालित की जाएंगी. इसमें विशेष तौर पर जीएस की प्रिपरेशन पर फोकस किया जाएगा. उर्दू से नेट देने वालों को भी प्रमोट किया जाएगा. प्रो. सालेहा राशिद ने बताया कि यूनिवर्सिटी के अलावा उनके सेंटर की ओर से सिटी के इंटर कॉलेजेस में भी कॅरियर काउंसिलिंग सेशन का आयोजन किया जाता है. इसमें अलग अलग सेक्टर के एक्सपर्ट इंटर कॉलेजेस के बच्चों को आगे की राह के बारे में बताते हैं.

माइनारटीज ट्रेनिंग सेंटर का संचालन वर्ष 1985 से किया जा रहा है. वर्ष 2014 से सेंटर के लिए ग्रांट एलाट नहीं हो सकी है. फिर भी सेंटर की ओर से कार्यक्रमों का आयोजन किया जाता है. मुझे उम्मीद है कि बच्चों के बेहतर भविष्य के लिहाज से यूनिवर्सिटी एडमिनिस्ट्रेशन की ओर से ठोस उपाए किए जाएंगे.

प्रोफेसर सालेहा राशिद, कोआर्डिनेटर, माइनारटीज ट्रेनिंग सेंटर

कॅरियर काउंसिलिंग को बनाया अभियान

क्षेत्रीय सेवायोजन कार्यालय की ओर से जुलाई में कॅरियर काउंसिलिंग कार्यक्रम एक अभियान के रूप में चलाया गया. इसके अन्तर्गत कक्षा 11 एवं 12 के अभ्यर्थियों को इंटर के बाद कॅरियर के अवसरों की जानकारी दी गई. इस दौरान विभिन्न विद्यालयों में शिविरों का आयोजन किया गया. इनमें अभ्यर्थियों को सरकारी रोजगारपरक योजनाओं की जानकारी दी गई तथा उन्हें आत्मनिर्भर बनने के लिए प्रेरित किया गया. इसमें मुख्य रूप से जिला सेवायोजन अधिकारी चन्द्रकांत सिंह, सहायक सेवायोजन अधिकारी कल्पना जायसवाल, अपर सांख्यिकीय अधिकारी अरविन्द कुमार आदि ने भाग लिया.

45

स्टूडेंट्स ने इसमें भाग लेने के लिए आवेदन किया था

30

स्टूडेंट्स का हो चुका है इंटरव्यू, जिसमें 18 ग‌र्ल्स भी शामिल हैं

09

से 23 जुलाई के बीच आवेदन का दिया गया था मौका, अब भी है मौका

60 स्टूडेंट्स को तैयारी करना का बनाया गया है टार्गेट