- वाराणसी में भी शुरू हुआ यूपी ट्रैफिक पुलिस के मोबाइल एप का काम

- एप पर पा सकते हैं ट्रैफिक अलर्ट, दे सकते हैं अफसरों को फीडबैक

दुनिया डेस्कटॉप से लैपटॉप और लैपटॉप से स्मार्टफोन पर आ चुकी है. पुलिस भी इस दौड़ में पीछे नहीं है. उत्तर प्रदेश ट्रैफिक पुलिस ने 20 जून को अपना मोबाइल एप लांच किया. बुधवार से वाराणसी में भी यह एप काम करना शुरू कर चुका है. किसी भी सामान्य मोबाइल एप्लिकेशन की तरह आम लोग इसे अपने मोबाइल पर इंस्टॉल कर सकते हैं. इसके बाद वह ट्रैफिक पुलिस की तमाम एडवाइजरी मानने के साथ ही उन्हें सुझाव भी दे सकेंगे.

एप में कई एडवांस फीचर

गूगल प्ले पर यूपी ट्रैफिक पुलिस एप के नाम से यह एप्लिकेशन उपलब्ध है. इसमें ट्रैफिक पुलिस के डायवर्जन प्लान, एडवाइजरी के विंडो के साथ ही सुझाव और शिकायतें करने की व्यवस्था भी की गई है. इसके जरिए आप किसी पुलिसकर्मी के बेहतर काम की तारीफ कर सकते हैं तो नियम तोड़ने वाले वाहनों या वसूली करने वाले पुलिसकर्मियों के खिलाफ शिकायतें भी दर्ज करा सकते हैं. खास बात यह कि एप को एडीजी ट्रैफिक स्तर तक के सभी अफसर देख सकेंगे और कार्रवाई में तेजी आएगी.

ऐसे करें रजिस्टर

मोबाइल पर एप्लिकेशन डाउनलोड करने के बाद इसमें अपना नाम, मोबाइल नंबर और ईमेल आईडी डालनी होगी. आपके ईमेल पर एप एक ओटीपी (वन टाइम पासवर्ड) भेजेगा. इस ओटीपी को वेरीफाई करने के बाद मोबाइल एप्लिकेशन खुद-ब-खुद एक्टिव हो जाएगा. इसके जरिए शहरी सड़कों पर जाम आदि की सूचनाएं भी दे सकेंगे. एप में एक और खास फीचर है हेल्प का. इस फीचर के जरिए डायल 100, 1090 आदि हेल्पलाइन पर भी सीधे कॉल की जा सकती है. साथ ही इससे सोशल मीडिया से भी कनेक्ट हुआ जा सकता है.

खास खास

- ईमेल पर ओटीपी के जरिए होगा रजिस्ट्रेशन

- लाइव लोकेशन के आधार पर जाम की सूचना दे सकेगी जनता

- शिकायतों और सुझावों पर होगी तत्काल कार्रवाई

- सोशल मीडिया से भी होंगे कनेक्ट

- सरकारी हेल्पलाइन पर भी सीधे कर सकेंगे कॉल

बयान

वाराणसी में यह एप एक्टिव हो गया है. सीओ ट्रैफिक अर्जुन सिंह को इस बाबत लखनऊ में ट्रेनिंग दिलाई गई है. जनता के फीडबैक के आधार पर इसमें सुधार होते रहेंगे.

सुरेशचंद्र रावत, एसपी ट्रैफिक वाराणसी