इसकी लोकप्रियता बढ़ेगी
मोबाइल वॉलेट उद्योग की मौजूदा विस्तार की रफ्तार कायम रहने की उम्मीद है। सलाहकार कंपनी डेलाइट की रिपोर्ट के मुताबि‍क 2022 तक मोबाइल वॉलेट के जरिए सौदों की संख्या 32 अरब पर पहुंच जाएगी। सालाना 126 परसेंट की दर से बढ़ते हुए मूल्य के हिसाब से मोबाइल वॉलेट से लेनदेन 2022 तक 32,000 अरब रुपये पर पहुंच जाएगा। मोबाइल वॉलेट से लेनदेन की संख्या में सालाना आधार पर 94 परसेंट की बढ़ोतरी होगी। रिपोर्ट कहती है कि मोबाइल इंटरनेट और स्मार्टफोन के विस्तार से मोबाइल वॉलेट का इस्तेमाल बढ़ेगा। इसके इस्तेमाल में सुगमता से इसकी लोकप्रियता बढ़ेगी।

प्रौद्योगिकी प्रणाली की सुरक्षा

इसके अलावा फ्रॉड और फाइनेंशियल सिक्योरिटी इस्यू भी डिजिटल पेमेंट टेक्नोलॉजी की मुख्य परेशानियां हैं। प्रौद्योगिकी प्रणाली की सुरक्षा सुनिश्चित करना महत्वपूर्ण है। यूपीआई के आने के बाद प्रतियोगिता में बढ़ोत्तरी हुई है और कंपनियां यूजर्स को मोबाइल वॉलेट से जुड़ी नई सर्विस पेश कर रही हैं। यूपीआई की शुरुआत ने आगे बढऩे वाली प्रतियोगिता में बढ़ोतरी की है। इसके अलावा, उद्योग के खिलाड़ी अपनी मूल सेवा से आगे बढऩा शुरू कर चुके हैं और संपार्शि्वक सेवाएं मुहैया कर रहे हैं।

Business News inextlive from Business News Desk

Business News inextlive from Business News Desk