- थाना छत्ता क्षेत्र स्थित सेंटर बैंक ऑफ इंडिया को बंदरों ने बना रखा है अड्डा

- सरकारी मशीनरी समस्या को लेकर नहीं दे रही कोई ध्यान, पब्लिक परेशान

आगरा. पिछले कुछ दिनों से बंदरों ने शहर से लेकर देहात तक आतंक मचा रखा है. इसके चलते लोग दहशत में हैं. हाल ही में रुनकता में खूंखार बंदर ने 14 दिन के मासूम को मार दिया था. इसके बाद भी सरकारी मशीनरी लचर बनी हुई है. बंदरों को पकड़ने के लिए कोई कदम नहीं उठाए जा रहे. जबकि, बंदरों का शहरभर में देखा जा सकता है. थाना छत्ता स्थित सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया को बंदरों ने अपना अड्डा बना रखा है. कस्टमर किसी तरह बैंक पहुंचते हैं.

रास्ते में बैठे रहते हैं बंदर

बेलनगंज स्थित सेंट्रल बैंक की ब्रांच के रास्ते में बंदरों का कब्जा रहता है. यहां पर आने वाले लोग बहुत ही सतर्कता से आते हैं. अगर हाथ में कुछ हुआ तो बंदर बैंक के अंदर पहुंचने ही नहीं देंगे. बंदर मुख्य द्वार से बैंक के चैनल तक बैठे रहते हैं. बैंक का स्टाफ भी बंदरों से परेशान रहता है.

पासबुक छीन ले जाते हैं

खाता धारकों ने बताया कि कई बार बंदर उनके हाथ से पासबुक छीन ले गए. कई बार हाथ में लगा बैग या फिर थैला लूट ले गए. बंदरों की भीड़ इतनी होती है कि कोई अपना सामान छुड़वाने की हिम्मत नहीं कर पाता. कई बार बंदर हमलावर हो जाते हैं. बैंक में बंदरों से सुरक्षा के कोई इंतजाम नहीं हैं.

पहले रखा था लंगूर

दो साल पहले बैंक प्रबंधतंत्र ने बंदरों के आतंक को रोकने के लिए लंगूर रखा था. वह भी कुछ दिनों तक रहा. बाद में पिंजरा भी रखा गया, लेकिन बंदर उसमें कैद न हो सके. इसके बाद अब फिर से वही हालात हो चुके हैं. बैंक में खड़े वाहनों को भी बंदर नुकसान पहुंचाते हैं. डिग्गी में रखा सामान सेफ नहीं है. साथ ही गाडि़यों की सीट को भी बंदर फाड़ देते हैं. बैंक कर्मचारी को भी बंदर काट चुके हैं