पश्चिमी तट पर तीन दिनों तक अत्यधिक बारिश की संभावना
नई दिल्ली (पीटीआर्इ)।  मौसम विभाग ने एक बार फिर पश्चिमी तट पर अगले तीन दिनों तक अत्यधिक बारिश की संभावना जतार्इ है। जून से सितंबर तक मानसून सक्रिय रहेगा।मानसून मध्य अरब सागर, गोवा, कर्नाटक, रायलसीमा क्षेत्र और आंध्र प्रदेश की आेर है। इसके साथ ही कोंकण , दक्षिण मध्य महाराष्ट्र, मराठवाड़ा, विदर्भ,  छत्तीसगढ़,  ओडिशा, तेलंगाना और पश्चिम मध्य एवं उत्तर बंगाल की खाड़ी की तरफ बढ़ चला है।

तटीय महाराष्ट्र की ओर तेजी से बढ़ने की उम्मीद नजर आ रही
मौसम विभाग ने यह भी कहा है कि मध्य अरब सागर, महाराष्ट्र, छत्तीसगढ़ और ओडिशा के साथ ही तटीय आंध्र प्रदेश के शेष हिस्से की तरफ मानसून के अगले 24 घंटों के दौरान तेजी से बढने की अनुकूल स्थितियां बनी हुई हैं।वहीं  'तटीय कर्नाटक, गोवा और दक्षिण महाराष्ट्र में 10 जून तक काफी जयादा बारिश होने की संभावना है। शनिवार से इसके मुंबई सहित तटीय महाराष्ट्र की ओर तेजी से बढ़ने की उम्मीद नजर आ रही है।

इन जगहों पर 48 घंटों  में भारी बारिश के आसार नजर आ रहे
इस अवधि के दौरान महाराष्ट्र के कर्इ शहरों में  अत्यधिक वर्षा हो सकती है।बंगाल की खाड़ी में भी निम्न दाब बनने से पूर्वोत्तर में तेज बारिश हो सकती है। अगले 48 घंटों के दौरान यह चक्रवात ले सकता है और इसके बांग्लादेश की ओर बढ़ने की संभावना है। मौसम विभाग के मुताबिक इस कारण नौ से 11 जून के बीच उत्तरी ओडिशा, पश्चिम बंगाल, सिक्किम, असम और मेघालय में अत्यधिक बारिश होने के आसार साफ नजर आ रहे हैं।

मानसून डेढ़ महीने से कुछ अधिक समय में पूरे देश में पंहुच जाएगा
बता दें कि देश में मानसून पहुंचने की आधिकारिक तिथि एक जून मानी जाती है लेकिन केरल में इस बार मानसून ने समय से तीन दिन पहले दस्तक दे दी थी। वहीं इन दिनों महाराष्ट्र में भी इसका असर साफ दिख रहा है। मौसम विभाग  के मुताबिक मानसून डेढ़ महीने से कुछ अधिक समय के अंदर पूरे देश में पंहुच जाएगा।आमतौर पर मानसून का अंतिम पड़ाव राजस्थान का श्रीगंगानगर जिला होता है। यहां 15 जुलाई तक मानसून पहुंचता है।

जब 'क्रेन बेदी' ने उठवा ली थी पूर्व PM की कार, जानें देश की पहली महिला IPS के बारे में ये 10 बातें

तारीख हुर्इ पक्की, बेटे की सगाई का कार्ड लेकर सिद्धिविनायक पहुंचीं नीता अंबानी, देखें तस्वीरें

National News inextlive from India News Desk