ह्यड्डठ्ठड्डद्व.ह्यद्बठ्ठद्दद्ध@द्बठ्ठद्ग3ह्ल.ष्श्र.द्बठ्ठ

छ्वन्रूस्॥श्वष्ठक्कक्त्र : शराब की बिक्री में ईस्ट सिंहभूम (जमशेदपुर) पूरे राज्य में अव्वल है। शराब से सबसे ज्यादा राजस्व यहीं से वसूला जाता है। जिले में दो फेज में 138 शराब दुकानों में से 131 दुकानों की बंदोबस्ती उत्पाद विभाग ने की है। इससे सरकार को सलाना 185.76 करोड़ का राजस्व मिलेगा। शहर के लोगजाम छलकाने में सबसे आगे हैं, इसका अंदाजा इससे लगाया जा सकता है कि राज्य से सबसे ज्यादा राजस्व देनेवाली 10 शराब दुकानों में सात जमशेदपुर में हैं। मार्च में शराब दुकानों की पहले चरण की बंदोबस्ती और मंगलवार को हुए दूसरे चरण की बंदोबस्ती में शराब कारोबारियों ने तीन से छह करोड़ तक दुकानों की बोली लगाई थी। राज्य में सबसे ज्यादा राजस्व देने वाली शराब दुकानें गोलमुरी, सिदगोड़ा, बिष्टुपुर, मानगो, कदमा और जुगसलाई में हैं।

गोलमुरी का राजस्व ज्यादा

गोलमुरी शराब दुकानों के लिए सबसे ऊंची बोली लगाई गई। गोलमुरी क्षेत्र में स्थित तीन शराब दुकानों का समूह बनाया गया, जिनमें दो विदेशी शराब व एक देसी शराब की दुकान है। सहायक उत्पाद आयुक्त कार्यालय से मिली जानकारी के मुताबिक गोलमुरी समूह की दुकानों से हर साल 5.75 करोड़ रुपए राजस्व वसूला जाएगा। विभाग के अनुसार यह दुकान राज्य का सबसे ज्यादा राजस्व देने वाली दुकान हैं। यहां हर दिन शराब की बिक्री 2.0 लाख से 2.5 लाख तक आंकी गई है।

195 करोड़ की कमाई

जिले की 131 शराब दुकानों से झारखंड सरकार के उत्पाद व मद्य निषेध विभाग को चालू वित्तीय वर्ष में 195 करोड़ का राजस्व मिलेगा। प्रदेश में सबसे ज्यादा राजस्व जमशेदपुर से ही सरकार को मिलेगा। जिले की लाइसेंसी 138 में से 131 दुकानों की बंदोबस्ती पूरी कर ली गई है। उपायुक्त कार्यालय सभागार में मंगलवार को दूसरे फेज के ऑनलाइन दुकानों की बंदोबस्ती की गई। दूसरे फेज में 36 समूह की 49 दुकानों की बंदोबस्ती की गई। इससे पूर्व पांच मार्च को 39 समूह की 81 दुकानों की बंदोबस्ती की गई थी। प्रथम फेज की दुकानों की बंदोबस्ती से करीब 109 करोड़ रुपए का राजस्व विभाग को हासिल हो रहा है। वहीं, दूसरे फेज की दुकानों की बंदोबस्ती से 76.31 करोड़ का राजस्व विभाग को मिलेगा। बची शराब दुकानों के राजस्व को भी मिला दिया जाए तो विभाग ने जिले में सालाना राजस्व 195 करोड़ रुपए तक मिलेगा। जिले की 96 फीसदी दुकानों की बंदोबस्ती का काम पूरा कर लिया गया है।

सबसे ज्यादा राजस्व देने वाली दुकानें

गोलमुरी - 5.75 करोड़

सिदगोड़ा -3.5 करोड़

बिष्टुपुर - 3.4 करोड़

मानगो -3.4 करोड़

जुगसलाई - 3 करोड़

साकची - 3.2 करोड़

सोनारी - 3.3 करोड़

राज्य में सबसे ज्यादा राजस्व देने वाली 10 शराब दुकानों में से सात जमशेदपुर में हैं। सबसे महंगी निविदा गोलमुरी शराब दुकान की 5.7 करोड़ रुपए में हुई। जिले में 138 शराब दुकानों में 131 दुकानों बंदोबस्ती कर ली गई है, जिससे सरकार को सालाना 185 करोड़ का राजस्व मिलेगा। जिला अबकारी विभाग ने इस साल 195 करोड़ राजस्व वसूलने का लक्ष्य रखा है।

-मनोज कुमार, एक्साइज आयुक्त, पूर्वी सिंहभूम