jamshedpur@inext.co.in
JAMSHEDPUR : आयकर विभाग की टीम ने गुरुवार को शहर के पांच डॉक्टरों के छह ठिकानों पर आयकर सर्वे किया. टीम ने शिशु रोग विशेषज्ञ डॉ. उन्मेश लुकतुके के आमबगान साकची, हड्डी रोग विशेषज्ञ डॉ. राजेश सिंह के विजया गार्डेन बारीडीह, शिशु रोग विशेषज्ञ डॉ. एससी दास के भालूबासा, स्त्री रोग विशेषज्ञ डॉ. दीपा घोष के भालूबासा, मेडिटेक डायग्नोस्टिक सेंटर के बिष्टुपुर कांट्रेक्टर्स एरिया और मानगो स्थित ठिकानों पर सर्वे शुरू किया था. इन पांचों डॉक्टरों को अब कुल दो करोड़ 42 लाख रुपये पर आयकर देना होगा.

लैब कनेक्शन की भी जांच

दवाओं के लिए जिन-जिन मेडिकल स्टोर पर मरीजों को ये डॉक्टर भेजते हैं वहां और पैथोलॉजिकल जांच के लिए भी जिन पैथोलॉजी भेजते हैं वहां के कनेक्शन की टीम ने जांच की. मरीजों से फीस के बारे में भी टीम के सदस्यों ने पूछताछ की. पूरी जांच-पड़ताल के बाद इन चिकित्सकों की वास्तविक आय पता चलने के बाद आयकर जुर्माना तय किया गया.

अभी और बढ़ेगी आय

आयकर सर्वे का नेतृत्व कर रहे आयकर उपायुक्त रंजीत मधुकर के मुताबिक डाक्टरों की आय अभी और बढ़ेगी. अभी तो सर्वे के बाद इन्होंने अपनी आमदनी खुद तीन से चार गुणा बढ़ायी है. दो दिन के सर्वे में हमने जो कागजात-सुबूत जुटाए हैं, उसके आधार पर इनकी वास्तविक आय का आकलन किया जाएगा. डाक्टरों को परोक्ष रूप से जो आमदनी होती है, उसे भी जोड़ा जाएगा. उन्होंने शहर के अन्य डाक्टरों व प्रोफेशनल्स को चेतावनी दी कि समय रहते वे अपने रिटर्न को संशोधित करा लें, तो सर्वे की परेशानी व बदनामी से बच सकते हैं.

कम आईटी देने की कबूली बात

आयकर सर्वे के बाद शहर के डाक्टरों ने यह कबूल कर लिया कि अब तक वह अपनी आमदनी करीब चार गुणा कम दिखा रहे थे. बताते चलें कि डॉ. एसपी दास व डॉ. दीपा घोष पति-पत्‍‌नी हैं और दोनों का क्लीनिक भालूबासा में ही है. आयकर सूत्रों ने बताया कि ये चिकित्सक आयकर रिटर्न में अपनी वास्तविक आय नहीं दिखाते थे. सर्वे के लिए तमाम ठिकानों पर पहुंची टीम ने मरीजों से पूछताछ की.

किसे कितना जुर्माना

-शिशु रोग विशेषज्ञ डॉ. उन्मेश लुकतुके को 50 लाख रुपये पर

-हड्डी रोग विशेषज्ञ डॉ. राजेश सिंह को एक करोड़ रुपये पर

-शिशु रोग विशेषज्ञ डॉ. एससी दास को 30 लाख रुपये पर,

-स्त्री रोग विशेषज्ञ डॉ. दीपा घोष को 12 लाख रुपये पर

-मेडिटेक डायग्नोस्टिक सेंटर के संचालक को 50 लाख रुपये आय पर