-करीबी रिश्तेदार से बढ़ती नजदीकी से नाराज था पूरा परिवार

-झगड़े के दौरान पहले दोनों भाइयों ने मार्टिना की कनपटी पर मारी थी गोली

lucknow@inext.co.in

LUCKNOW :

पीजीआई एरिया में एमबीए छात्रा मार्टिना गुप्ता की हत्या में उसके पिता के साथ ही दोनों भाई भी शामिल थे. रविवार को अरेस्ट किये गए मार्टिना के पिता से सख्त पूछताछ में यह खुलासा हुआ. जिसके बाद पुलिस ने दोनों आरोपी भाइयों को अरेस्ट कर लिया है. बताया जा रहा है कि मार्टिना की उसके करीबी शादीशुदा रिश्तेदार से बढ़ती नजदीकियों से परिवार नाराज था. इसी को देखते हुए परिजन उसकी शादी किसी दूसरे लड़के से कराना चाहते थे, लेकिन वह इसके लिये राजी न थी. इसी बात से भड़के भाइयों ने पहले उसे कनपटी पर गोलियां मारी फिर पिता ने भी उसकी छाती में तीन गोलियां उतार दीं.

पिता ने उगला राज

एसपी नॉर्थ अनुराग वत्स ने बताया कि रविवार को अरेस्ट किये गए मार्टिना के पिता राकेश बाबू गुप्ता ने पुलिस की पूछताछ में बताया था कि वह मार्टिना की शादी करना चाहते थे लेकिन, वह इसके लिये राजी न थी. इसी वजह से उन्होंने मार्टिना की गोली मारकर हत्या कर दी.

गले नहीं उतरी थ्योरी

एसपी के मुताबिक, पिता की बताई गई थ्योरी उनके गले नहीं उतर रही थी कि महज शादी से इंकार पर कोई पिता अपनी बेटी को गोली क्यों मार देगा. जब तक कि उसे बेटी से नफरत न हो. यही वजह है कि राकेश बाबू से देररात फिर से पूछताछ शुरू की गई. काफी देर की पूछताछ के बाद राकेश टूट गया और उसने इस हत्याकांड में अपने दोनों बेटों अभिषेक उर्फ दीपक गुप्ता और यश गोयल के शामिल होने की बात कुबूल ली. जिसके बाद पुलिस ने रविवार देररात साउथ सिटी पुल के करीब उन दोनों को अरेस्ट कर लिया.

बदनामी के डर से कर दी हत्या

पूछताछ में राकेश ने बताया कि मार्टिना की एक करीबी शादीशुदा रिश्तेदार से नजदीकी बढ़ती जा रही थी. इसकी भनक लगने पर उसने व उसके दोनों बेटों ने मार्टिना को कई बार समझाया लेकिन, वह परिजनों की बात सुनने को तैयार न थी. यह बात परिजनों को अखर रही थी और उन्हें रिश्तेदारी में बदनामी का डर सताने लगा था. इसी समस्या से उबरने के लिये राकेश गुप्ता ने एक विभाग में अधिकारी युवक से मार्टिना की शादी तय कर दी थी. लेकिन, मार्टिना इसके लिये तैयार न थी. उसने शादी से इंकार कर दिया था. इसी को लेकर शुक्रवार शाम को राकेश व मार्टिना के बीच जमकर कहासुनी हुई थी. हालांकि, मां मालती देवी गुप्ता ने बीच-बचाव कर मामला शांत करा दिया.

पहले भाई फिर पिता ने दागी गोलियां

एसपी अनुराग वत्स के मुताबिक, राकेश ने पुलिस को बताया कि शनिवार को एक बार फिर मार्टिना को उनकी मौजूदगी में भाइयों अभिषेक और यश गोयल ने समझाने की कोशिश की. लेकिन, वह उन्हें ही भला-बुरा कहने लगी. जिससे भड़के दोनों भाइयों ने बारी-बारी से मार्टिना की कनपटी से पिता की पिस्टल सटाकर फायर कर दिया. गोली लगते ही मार्टिना वहीं धराशायी हो गई. इसके बाद राकेश ने पिस्टल हाथ में लेकर मार्टिना की छाती पर तीन गोलियां उतार दीं.

गुस्सा शांत हुआ तो ले गए ट्रॉमा सेंटर

गुस्से में बेटी की छाती में तीन गोली उतारने के बाद राकेश वहीं बैठ गए थे. गोली की आवाज सुनकर वहां पहुंची मालती देवी ने बेटी को खून से लथपथ देखा तो कोहराम मच गया. काफी देर तक सोच-विचार के बाद उन लोगों ने मार्टिना के इलाज के लिये अपने एक परिचित डॉक्टर को बुलाया. लेकिन, डॉक्टर ने मार्टिना की हाल देख हाथ खड़े कर दिये.

पुलिस को नहीं दी सूचना

जिसके बाद वे लोग बिना पुलिस को सूचना दिये उसे लेकर ट्रॉमा सेंटर पहुंचे. जहां डॉक्टर्स ने पुलिस को इसकी सूचना दे दी. मौके पर पहुंची पुलिस को पूरा परिवार सुसाइड साबित करने पर तुल गया. लेकिन, मार्टिना के शरीर में पांच गनशॉट इंजरी होने की वजह से पुलिस इसे सुसाइड मानने को तैयार न हुई. आखिरकार, मां मालती देवी ने पुलिस से बेटों को बचाने के लिये पति राकेश बाबू गुप्ता के खिलाफ तहरीर दे दी. हालांकि, इसके बाद हुई पड़ताल में दोनों बेटे भी पुलिस के चंगुल में फंस ही गए.

पूरे मामले में परिजनों ने घटना के बाद से पुलिस को गुमराह किया है. लगातार बयान बदलने और पुलिस की जांच भटकाने के लिये जिम्मेदार परिजनों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी. पुलिस परिवार के सभी सदस्यों का बयान दर्ज करेगी.

दीपक कुमार

एसएसपी, लखनऊ